Fashion/Film/T.VNational

सुशांत सुसाइड केस: पटना से मुंबई ट्रांसफर किये जाने की रिया की याचिका पर आज सुनवाई

New Delhi: अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की कथित सुसाइड के सिलसिले में दर्ज एक प्राथमिकी पटना से मुंबई स्थानांतरित किये जाने की बॉलीवुड एक्ट्रेस रिया चक्रवती की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को सुनवाई होगी. प्राथमिकी में रिया पर सुशांत को आत्महत्या के लिये उकसाने का आरोप लगाया गया है.

अभिनेता की मौत के मामले की जांच के अधिकार क्षेत्र को लेकर बिहार और महाराष्ट्र की पुलिस के बीच जोर आजमाइश जारी है. ऐसे में रिया ने पटना में दर्ज प्राथमिकी अधिकार क्षेत्र के आधार पर ट्रांसफर करने का कोर्ट से अनुरोध किया है. गौरतलब है कि सुशांत का शव मुंबई स्थित उनके आवास में 14 जून को फंदे से लटका हुआ मिला था.

इसे भी पढ़ें- अयोध्या में आज रचा जायेगा इतिहास, पूजन की तैयारियां पूरी, थोड़ी देर में दिल्ली से रवाना होंगे PM मोदी

महाराष्ट्र सरकार जांच CBI को सौंपे जाने के विरोध में

न्यायमूर्ति ऋषिकेश रॉय की पीठ के समक्ष होने वाली सुनवाई पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की नजरें टिकी हुई हैं , जिन्होंने दिवंगत अभिनेता के पिता कृष्ण किशोर सिंह के अनुरोध पर इस मामले की सीबीआइ जांच की मंगलवार को सिफारिश की. वहीं, महाराष्ट्र सरकार जांच CBI को सौंपे जाने के विरोध में है.

रिया ने एक बार केंद्रीय गृह मंत्री को कथित तौर पर ट्वीट कर इस विषय की CBI जांच की मांग की थी. हालांकि, मंगलवार को उन्होंने अपने वकील सतीश मणेशिंदे के मार्फत इस कदम का विरोध करते हुए कहा कि यह फैसला कानून के अनुरूप नहीं है.

इसे भी पढ़ें- मिडिल क्लास की टूट चुकी है कमर, सत्ता को खुश करने के लिए मीडिया भटका रहा ध्यान

याचिका में महाराष्ट्र सरकार को भी पक्ष बनाने की मांग

रिया ने (प्राथमिकी की)लंबित स्थानांतरण याचिका के साथ दायर अपनी अंतरिम याचिकाओं में कहा है कि मीडिया में आ रही खबरों के जरिये यह बात प्रमुखता से सामने आ रही है कि बिहार के मुख्यमंत्री एवं अन्य स्थानीय नेताओं के हस्तक्षेप पर पटना में प्राथमिकी दर्ज हुई.

रिया ने उन कुछ खबरों को भी अपने वकील मलक मनीष भट्ट के जरिये रिकार्ड में लाने की कोशिश की है जिनमें आरोप लगाया गया है कि सुशांत का परिवार नहीं चाहता है कि मामले की जांच मुंबई पुलिस करे. अदाकारा ने अपनी याचिका में महाराष्ट्र सरकार को एक पक्ष बनाने की मांग की है. बिहार सरकार और सुशांत के पिता को भी रिया की याचिका में पक्ष बनाया गया है.

इसे भी पढ़ें- राज्य के 127 बीएड कॉलेजों को करना होगा बदलाव, चार वर्षीय इंटीग्रेटेड बीएड पर होगा जोर

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button