BiharLead News

मोतिहारी में रजिस्ट्रार के ठिकानों पर निगरानी का छापा, आय से अधिक संपत्ति का मामला

एक बैंक अकाउंट से मिले 74 लाख रुपये

Patna: आय से अधिक संपत्ति मामले में शुक्रवार को निगरानी की टीम ने मोतिहारी के रजिस्ट्रार बृज बिहारी शरण के ठिकानों पर छापामारी की. इस दौरान अब तक उनके एक अकाउंट से 74 लाख रुपए का पता चला है. फिलहाल छापामारी जारी है.

बता दें कि निगरानी की टीम पटना के पुर्णेंदु नगर मे तीन मंजिला आवास में छापेमारी कर रही है. वहीं निगरानी की टीम उनके पिता के आवास पर भी पहुंची है, जहां से पांच लाख रुपए की बरामद की गई है. इसके अलावा संपत्ति से जुड़े अन्य दस्तावेज भी बरामद किए गए हैं. बताया गया कि अपने दस साल की नौकरी में उन्होंने करोड़ों रुपए की संपत्ति अर्जित की है.

इसे भी पढ़ें :  क्लाइमेट चेंज थीम पर नुक्कड़ नाटक कर लोगों को किया वैश्विक समस्या के प्रति जागरूक

ram janam hospital
Catalyst IAS

गौरतलब है कि जिस रजिस्ट्रार के ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है, उनके खिलाफ भ्रष्टाचार की कई शिकायतें हैं. रजिस्ट्रार बृज बिहारी शरण मोतिहारी से पहले वह शेखपुरा में पोस्टेड थे. जहां उनके खिलाफ खिलाफ 2018 में राजस्व क्षति की शिकायत की गई थी. शिकायत की जांच मुंगेर प्रमंडल के सहायक निबंधन महानिरीक्षक से कराई गई थी. जांच में आरोप सही पाया गया. जिसमें तथ्य छुपा कर राजस्व क्षति से संबंधित दस्तावेज में ₹1,08,045 वह दूसरे दस्तावेज में 1,22,704 रुपये कम मुद्रांक की वसूली हेतु आदेश पारित किया गया था. विभाग ने पाया कि अवर निबंधक ने कर्तव्य के प्रति लापरवाही एवं दायित्वों का निर्वहन सही ढंग से नहीं किया. साथ ही यह प्रशासनिक नियंत्रण एवं पर्यवेक्षक का अभाव दर्शाता है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

रजिस्ट्रार ने शेखपुरा के बाद मोतिहारी में अवर रजिस्ट्रार द्वारा काली कमाई का खेल शुरू कर दिया गया. मोतिहारी के जिलाधिकारी ने 5 अक्टूबर 2020 को मोतिहारी के जिला अवर निबंधक को एक पत्र लिखा था. पत्र में यह बात प्रमाणित हुआ था कि सब रजिस्ट्रार की मिलीभगत से सरकारी राजस्व का नुकसान हुआ है. डीएम ने शिकायत की जांच कराई और जांच रिपोर्ट मोतिहारी के जिला अवर निबंधक को भेज दिया और केस दर्ज कराने सब रजिस्ट्रार की भूमिका की जांच कराने का आदेश दिया था. मोतिहारी डीएम ने अपने पत्र में उल्लेख किया है कि अरेराज निबंधन कार्यालय से जमीन के निबंधन में मिलीभगत कर लाखों रुपये के राजस्व की क्षति पहुंचाई है.

इसे भी पढ़ें :  सरकार के पशुधन वितरण योजना को हर हाल में बनाएं सफल

Related Articles

Back to top button