BiharCrime News

औरंगाबाद में निगरानी ने कार्यपालक अभियंता और कैशियर को रिश्वत लेते रंगे हाथ किया गिरफ्तार

Aurangabad : जिले में मंगलवार को निगरानी विभाग की टीम ने एक कार्यपालक अभियंता और कैशियर को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया. दोनों एक ठेकेदार से रिश्वत ले रहे थे. इसी दौरान निगरानी की टीम ने दोनों को रंगे हाथ दबोच लिया. निगरानी की टीम कार्यपालक अभियंता और कैशियर को गिरफ्तार कर अपने साथ पटना लेकर चली गयी. जहां पूछताछ के बाद दोनों को निगरानी कोर्ट के समक्ष पेश किया जायेगा.

जानकारी के मुताबिक निगरानी की टीम ने दाउदनगर में पदस्थापित ग्रामीण कार्य विभाग के कार्यपालक अभियंता अरुण कुमार एवं रोकड़ पाल राकेश कुमार सुमन के घर छापेमारी कर दोनों को रिश्वत के पैसों के साथ धर दबोचा. निगरानी विभाग की इस कार्रवाई की किसी को भनक तक नहीं लगी. दोनों को गिरफ्तार करने के बाद निगरानी की टीम उन्हें अपने साथ लेकर पटना चली गयी.

इसे भी पढ़ें:मंत्री मिथिलेश ठाकुर का दावा, अब झारखंड में फुटबॉल संघ का विवाद खत्म, लिखा जायेगा नया इतिहास

Chanakya IAS
Catalyst IAS
SIP abacus

बताया जा रहा है कि तेलिया पोखर निवासी संवेदक गोपाल सिंह के कई कार्य ग्रामीण कार्य विभाग में चल रहे थे और उसका समय समाप्त हो रहा था. समय पर कार्य पूरा नहीं होने के कारण संवेदक गोपाल सिंह ने अवधि विस्तार के लिए आवेदन दिया था.

The Royal’s
Sanjeevani
MDLM

अवधि बढ़ाने के एवज में कार्यपालक अभियंता द्वारा मोटी रकम की मांग की गयी थी. संविदा अवधि के विस्तार को लेकर कार्यपालक अभियंता लगातार ठेकेदार पर पैसों के लिए दबाव बना रहा था. कार्यपालक अभियंता के दबाव से परेशान होकर ठेकेदार ने इसकी जानकारी निगरानी विभाग को देते हुए कार्रवाई की मांग की थी.

इसे भी पढ़ें:19 मई को तीन मामलों की होगी हाइकोर्ट में सुनवाई

संवेदक के आवेदन पर कार्रवाई करते हुए निगरानी की टीम ने जाल बिछाया और रिश्वत लेने के मामले में शामिल कार्यपालक अभियंता एवं रोकड़ पाल को रंगे हाथ धर दबोचा.

दोनों ने ठेकेदार से कितने रुपये लिये थे यह फिलहाल स्पष्ट नहीं हो सका है. हालांकि दोनों के द्वारा ठेकेदार से लगभग डेढ़ लाख लिये जाने की बात सामने आ रही है.

इसे भी पढ़ें:ये है गजब की क्लास ! एक ही ब्लैकबोर्ड पर 2 टीचर एक साथ पढ़ाते दिखे हिंदी और उर्दू

Related Articles

Back to top button