Sci & Tech

उपग्रहों की श्रृंखला से हैरानी में पड़े लोग, परेशान हुए अंतरिक्ष विशेषज्ञ

 

Philadelphia  :  अमेरिका के कुछ हिस्सों में बुधवार, बृहस्पतिवार और शुक्रवार को लगातार रात में आसमान में नजर आई तेज रोशनी से लोग हैरानी में पड़ गए और कुछ ने सोचा शायद उड़न तश्तरियों (यूएफओ) का पूरा दस्ता चला आ रहा है लेकिन दरअसल वह कुछ और था. शौकिया तौर पर अंतरिक्ष में नजर रखने वालों और पेशेवर अंतरिक्ष विज्ञानियों ने इसपर नाराजगी जाहिर करते हुए अंतरिक्ष के औद्योगिकीकरण पर दुख जताया है.

 

इसे भी पढ़ेंः झरिया में धमाके के साथ बना गोफ, निकल रहीं है आग और गैस की लपटें, दहशत

Catalyst IAS
ram janam hospital

 

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

रोशनियों का यह पूरा कारवां वास्तव में एलन मस्क की कंपनी स्पेसएक्स द्वारा इस हफ्ते शुरू की गई स्टारलिंक इंटरनेट सेवा के तहत प्रक्षेपित किए गए कम दूरी पर उड़ान भरने वाले उपग्रहों की श्रृंखला थी. टेक्सास से लेकर विस्कॉन्सिन तक के निवासियों ने टीवी चैनलों को फोन करके इन रोशनियों की जानकारी दी और इनके उड़नतश्तरियां होने का अंदाजा लगाया.

 

स्पेसएक्स के प्रवक्ता के नाम भेजे गए एक ईमेल का शनिवार तक जवाब नहीं आया था लेकिन अंतरिक्ष विशेषज्ञों का कहना है कि एक के बाद एक नजर आई रोशनियां और धरती से उनकी दूरी से उनकी पहचान स्टारलिंक उपग्रहों के तौर पर करना उन लोगों के लिए आसान था जो इन्हें देखने के आदी हो चुके हैं.

इसे भी पढ़ेंः महाविलय के बाद इन 10 सरकारी बैंकों की 2,118 शाखाओं का वजूद हुआ खत्म

 

अमेरिकन एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी के प्रेस अधिकारी डॉ. रिचर्ड फिनबर्ग ने कहा, “आप इस तरह से इन्हें स्टारलिंक उपग्रह बता सकते हैं कि ये मोतियों की एक श्रृंखला सी लगती है, कुछ मूल कक्षाओं से एक के बाद एक आती रोशनियों की तरह.’’

 

इस महीने, स्पेसएक्स पहले ही कई उपग्रहों का प्रक्षेपण कर चुका है. यह सब दुनिया के वंचित क्षेत्रों तक इंटरनेट की पहुंच को और डिजिटल अंतर को कम करने की योजना का हिस्सा है.

इसे भी पढ़ेंः हिमंत बिस्वा होंगे असम के मुख्यमंत्री, सोनोवाल ने सौंपा इस्तीफा

Related Articles

Back to top button