न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बिहार की राजनीति में शूर्पणखा की इंट्री, जदयू नेता ने मीसा को शूर्पणखा बताया, तेजप्रताप ने नीरज की औकात पूछ ली

बिहार में सत्ताधारी जदयू के प्रदेश प्रवक्ता नीरज कुमार द्वारा राजद प्रमुख लालू प्रसाद की बड़ी पुत्री और राज्यसभा सदस्य मीसा भारती की शूर्पणखा से तुलना करने पर मीसा के भाई और पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव ने रविवार को नीरज पर निशाना साधा है

14

Patna : बिहार में सत्ताधारी जदयू के प्रदेश प्रवक्ता नीरज कुमार द्वारा राजद प्रमुख लालू प्रसाद की बड़ी पुत्री और राज्यसभा सदस्य मीसा भारती की शूर्पणखा से तुलना करने पर मीसा के भाई और पूर्व मंत्री तेज प्रताप यादव ने रविवार को नीरज पर निशाना साधा है. नीरज के बयान पर भड़के तेजप्रताप ने उन पर पलटवार करते हुए कहा कि हमारे सामने जदयू के प्रवक्ताओं की क्या औकात है? उन्होंने मुख्यमंत्री और जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार से कहा कि वह अनाश-शनाप बोलने वाले अपने नेताओं पर नकेल कसें वरना वह उनपर कानूनी कार्रवाई करेंगे. पूर्व मंत्री तेजप्रताप ने कहा कि हार के डर से विरोधी घबरा गये हैं इसलिए वह ऐसी बातें कर रहे हैं. बता दें कि बिहार में सत्ताधारी जनता दल यूनाइटेड (जदयू) के राज्य प्रक्ता नीरज कुमार ने राजद के सुप्रीमो की बड़ी बेटी और राज्यसभा सांसद मीसा भारती को शूर्पणखा करार दिया था.

 सीट की चाहत में ताबड़तोड़ जेल जाकर दंडवत कर रहे हैं

नीरज कुमार ने रविवार को ट्वीट कर कहा था कि भरतमिलाप में भरत पूरे परिवार के साथ जंगल मे राम को वापस लाने गये थे; परंतु आज की स्थिति उलट है. आज न केवल छोटा भाई सत्ता पर काबिज है, बल्कि बड़े भाई को वन-वन घूमने को बाध्य किया गया. शूर्पणखा को एक क्षेत्र के मालिक बनाने पर भी कोई राजी नहीं है. जदयू प्रवक्ता ने राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव और उनसे मिलने वाले लोगों पर निशाना साधते हुए लिखा, आज नेता सीट की चाहत में ताबड़तोड़ जेल जाकर दंडवत कर रहे हैं. इन नेताओं को जेल में बंद भ्रष्टाचारी से याचना करने में इनके सम्मान को ठेस नही लग रही? हद है सत्ता भूख; अब तो ये नेता भ्रष्टाचारी परिवार का झोला ढोने तक को तैयार हैं. धन्य हैं सम्मनित नेता.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: