न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सूरत के हीरा व्यापारी की दरियादिली, तीन कर्मचारियों को बोनस में दी मर्सिडीज बेंज कार

कर्मचारियों को लगभग 1.3 करोड़ रुपये की कीमत वाली कार कंपनी में नौकरी का 25वां साल पूरा करने पर दी गयी है.

197

Ahmedabad : सूरत के हीरा व्यापारी सावजी धनजी ढोलकिया की दरियादिली की हर तरफ फिर चर्चा हो रही है. बता दें कि सावजी धनजी ढोलकिया अपनी कंपनी के कर्मचारियों को कार, फ्लैट का बोनस पूर्व में भी देते रहे हैं. सावजी ने इस बार अपनी कंपनी हरेकृष्णा एक्सपोर्टर के तीन सीनियर कर्मियों नीलेश जडेजा, मुकेश चांदपारा और महेश चांदपारा को एक-एक मर्सिडीज बेंज जीएलएस 350डी कार का बोनस दिया है. इन कर्मचारियों को लगभग 1.3 करोड़ रुपये की कीमत वाली कार कंपनी में नौकरी का 25वां साल पूरा करने पर दी गयी है.

तीनों को कार की चाबियां कंपनी द्वारा आयोजित समारोह में गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री व वर्तमान में मध्यप्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन के हाथों प्रदान की गयी. इसके अलावा सावजी ने सड़क दुर्घटना में मृत अपने एक कर्मचारी के परिवार को भी एक करोड़ रुपये का चेक देकर प्रदान किया है.

इसे भी पढ़ेंःचिटफंड घोटाले में सीबीआइ ने की 13 जगहों पर छापामारी, रेनबो कंपनी के कई दस्तावेज जब्त

1977 में सावजी 12.5 रुपये लेकर अपने चाचा के पास सूरत आये थे

सावजी के अनुसार नीलेश, मुकेश और महेश जब उनके पास हीरा कटाई व पॉलिश का काम सीखने आये थे, तो उनकी उम्र महज 15 साल, 13 साल और 18 साल की थी.  सालाना छह हजार करोड़ रुपये के टर्नओवर और 5500 कर्मचारियों वाली हरेकृष्णा एक्सपोर्टर कंपनी को खड़ा करने वाले सावजी की कहानी अनूठी है. आर्थिक तंगी के कारण 13 साल की उम्र में पढ़ाई छोड़ने वाले सावजी अमरेली जिले के दूधला गांव निवासी हैं. बताया गया कि 1977 में वे अपने गांव से 12.5 रुपये लेकर सूरत अपने चाचा के पास सूरत आये थे. लेकिन समय बीतने के साथ सावजी ने इतनी बड़ी कंपनी खड़ी की. अपनी सफलता का कारण वे अपने कर्मचारियों की मेहनत बताते हैं. सौराष्ट्र क्षेत्र में सावजी काका कहकर बुलाया जाता है.

इसे भी पढ़ें : बीएसएफ के हेड कांस्टेबल के साथ की गयी बर्बरता का बदला, पाकिस्तानी सेना के 11 जवान मार गिराये गये

सावजी के बेटे द्रव्य अमेरिका की पेस यूनिवर्सिटी से एमबीए हैं

बता दें कि सावजी के बेटे द्रव्य अमेरिका की पेस यूनिवर्सिटी से एमबीए हैं. इससे पूर्व पारिवारिक परंपरा के कारण सावजी ने उसे ट्रेन की सामान्य बोगी का टिकट देकर कोच्चि भेजा था, जहां द्रव्य को एक माह तक अपने दम पर गुजर-बसर करके दिखाना था. कम से कम तीन नौकरी इस एक महीने में करनी थी. बताया गया है कि कोच्चि में द्रव्य ने 350 रुपये किराये वाले कमरे में रहकर बेकरी, रेस्टोरेंट और कॉल सेंटर में नौकरी की.

2014 में कर्मचारियों को  491 कार व 207 फ्लैट प्रदान किये थे : बता दें कि सावजी धनजी ढोलकिया ने 2014 में कर्मचारियों को दीवाली बोनस के तौर पर 491 कार व 207 फ्लैट प्रदान किये थे. 2016 में सावजी ने 51 करोड़ रुपये का बोनस अपने कर्मचारियों को दिया था. उसी वर्ष  बोनस के रूप में 1260 कार और 400 फ्लैट कर्मचारियों को तोहफे में प्रदान किये थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: