न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सूरज की प्रेमिका 

शाम घूंघट डाल कर निकलती है

84
सूरज की प्रेमिका
Neeraj Neer

शाम घूंघट डाल कर

निकलती है

कमरे से आँगन में। 

फिर दोनों हाथ बढ़ाकर

hotlips top

मूँद देती है

आसमान की आँखें

और कर लेती है आलिंगन 

सूरज का।    

फिर चूमती है उसके होठों को ..

Related Posts

रुख हवाओं का जिधर है, हम उधर के हैं…

मौजूदा हालात पर वरिष्ठ साहित्यकार मिथिलेश का तीखा व्यंग्य

सूरज लज्जाशील है। 

शर्म से लाल हो उठता है।

तब शाम खींच देती है

चारो तरफ

अँधेरे का पर्दा

और फिर अलोप जाती है

सूरज के साथ।  

शाम सूरज की प्रेमिका है

जो निकलती है

कमरे से

आँगन में ….

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like