न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#KapilSibbel ने कहा, सुप्रीम कोर्ट ही यह तय करेगा कि  CAA संवैधानिक है या नहीं

हमारे नंबर कम हैं और वो अपने बहुमत से कोई भी कानून पारित करा सकते हैं. इसका मतलब यह  नहीं कि वो संवैधानिक  है मेरे कहने से असंवैधानिक भी नहीं हो सकता.

38

NewDelhi :  कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता कपिल सिब्‍बल ने CAA को लेकर कहा कि हम चुनाव हारें हैं. यह हमें स्‍वीकार है. हमारे नंबर कम हैं और वो अपने बहुमत से कोई भी कानून पारित करा सकते हैं. इसका मतलब यह  नहीं कि वो संवैधानिक  है मेरे कहने से असंवैधानिक भी नहीं हो सकता. यह सुप्रीम कोर्ट ही तय करेगा कि  CAA संवैधानिक है या नहीं. कपिल सिब्‍बल न्‍यूज18 इंडिया के कार्यक्रम चौपाल में बोल रहे थे.

यह पूछे जाने पर कि यह उनके चुनाव घोषणापत्र में था तो सिब्‍बल ने कहा कि अगर कोई मेनिफेस्टो में लिख देगा कि चुनाव जीतने के बाद सभी मुस्लिमों को देश से बाहर निकाल देंगे तो क्या ऐसा होने देंगे.  इस क्रम में  नागरिकता संशोधित कानून 2019  के खिलाफ प्रदर्शनों में हिंसा के सवाल पर कपिल सिब्बल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम लिये बिना कहा कि कपड़े से लोगों की पहचान करने वाली लीडरशिप मैंने आज तक नहीं देखी. सुबह उठते ही पाकिस्तान-पाकिस्तान करने लग जाते हैं. हिंसा कौन करा रहा है? हम पागल हैं जो हिंसा करायेंगे.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें :  #CAAProtest : शिवसेना के मुखपत्र सामना ने लिखा, जामिया के छात्रों पर पुलिस की कार्रवाई अवैध और अमानवीय  

किसी भी चीज को मैनिफेस्टो में लिखने से क्या होता है

कहा कि  किसी भी चीज को मैनिफेस्टो में लिखने से क्या होता है. कानून को संविधान के नजरिए से देखा जायेगा. आरोप लगाया कि 2014 के बाद  कभी लव जेहाद, कभी घरवापसी, कभी एनआरसी, फिर नागरिकता कानून, फिर एनआरसी. अब यूनिफार्म सिविल कोड. दिल्‍ली विधानसभा चुनाव 2020 के लेकर कपिल सिब्‍बल ने कहा कि आम आदमी पार्टी कांग्रेस के बिना सरकार नहीं बना पाये गी. हम उनके साथ जाएंगे या नहीं, यह हम तय करेंगे. दिल्ली में हमारे बिना सरकार नहीं बनेगी.

इसे भी पढ़ें : #CAAProtest : हार्वर्ड और ऑक्सफोर्ड के छात्रों-शोधकर्ताओं का जामिया और एएमयू में पुलिस कार्रवाई के विरोध में प्रदर्शन

 न तो विपक्ष कमजोर है और न ही जनता

विपक्ष  के कमजोर होने के सवाल पर  कहा कि न तो विपक्ष कमजोर है और न ही जनता. जनता समझ चुकी है. मैं  किसी भी मुद्दे पर भाजपा के किसी भी नेता को बहस की चुनौती देता हूं. राजनीति में हार-जीत चलती रहती है. पहले 10 साल हमने राज किया. तब जनता ने हमारी बात मान ली. अब इनकी बात मान ली. इसमें बवाल क्या खड़ा करना. राजनीति में हार-जीत चलती रहती है, लेकिन ये ध्यान रखना चाहिए कि हम जनता के लिए क्या करें. लक्ष्य ये होना चाहिए कि देश किधर जा रहा है.

राम मंदिर पर कांग्रेस की ओर से फैसला लटकाने की कोशिश के आरोप पर कपिल सिब्‍बल ने कहा कि राम मंदिर पर फैसला टालने की बात मैंने ठीक कही थी. सुप्रीम कोर्ट  खुद सुनना नहीं चाहता था. कोर्ट ने कहा कि ये मामला हमारी प्राथमिकता में नहीं है. ये बात सुप्रीम कोर्ट ने 2017 में कही थी. कोर्ट की बात कोई नहीं करता. मैंने क्या कहा, उस पर बात करने लगते हैं.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

इसे भी पढ़ें : #CAAProtest : जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी ने कहा, इस कानून का भारत के मुसलमानों से कोई लेना-देना नहीं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like