न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सुप्रीम कोर्ट न्यायपालिका पर ‘‘सोच समझ कर हो रहे हमले’’ से नाराज

659

New Delhi : सुप्रीम कोर्ट ने न्यायपालिका पर ‘‘सोच समझकर किए जा रहे हमले’’ पर गुरुवार को नाराजगी जताई. साथ ही कहा कि अब इस देश के अमीर एवं ताकतवर लोगों को यह बताने का समय आ गया है कि वे ‘‘आग से खेल रहे’’ हैं और यह रुक जाना चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट एक अधिवक्ता उत्सव सिंह बैंस के उन दावों पर सुनवाई कर रही थी जिसमें प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई को यौन उत्पीड़न के आरोपों में फंसाने के लिए एक बड़ा षड्यंत्र रचे जाने की बात कही गयी है. कोर्ट ने वकील के दावों की सुनवाई करते कहा कि वह अपराह्न दो बजे आदेश देगा.

इसे भी पढ़ेंःरांची : चंदाघांसी में दो सौ एकड़ का भूमि घोटाला, मूल रैयत के नाम में हुई हेरफेर

क्या कहा पीठ ने

न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति आर एफ नरिमन और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने कहा कि पिछले तीन-चार साल से न्यायपालिका से जिस प्रकार पेश आया जा रहा है, वह उससे बेहद नाराज है. पीठ ने कहा कि वह अपराह्न दो बजे इस मामले में अपना आदेश सुनायेगी.

Related Posts

#INXMediaCase :  कोर्ट ने पी चिदंबरम की न्यायिक हिरासत अवधि तीन अक्टूबर तक बढ़ा दी   

जमानत याचिका पर 23 सितंबर को हाईकोर्ट में सुनवाई होगी. चिदंबरम 5 सितंबर से तिहाड़ जेल में हैं 

पीठ ने कहा कि पिछले कुछ वर्षों से जिस तरीके से इस संस्था से पेश आया जा रहा है, उसे देखकर हमें कहना पड़ेगा कि यदि ऐसा होगा तो हम काम नहीं कर पाएंगे. कोर्ट ने कहा कि इस संस्था को बदनाम करने के लिए एक सोच समझ कर हमला किया जा रहा है और सोच समझ कर यह खेल खेला जा रहा है.

कोर्ट का कहना था कि मनमाफिक पीठ के समक्ष सुनवाई कराने के आरोप बहुत ही गंभीर है और उनकी जांच की जानी चाहिए.

इसे भी पढ़ेंःपश्चिम बंगाल का अवैध कोयला झारखंड के जामताड़ा से पार कराया जाता है, प्रति ट्रक 20 हजार वसूलती है पुलिस

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: