Main SliderNationalTODAY'S NW TOP NEWS

सुप्रीम कोर्ट ने IPC की धारा 497 को किया रद्द, कहा महिला-पुरुष एक समान, विवाहेतर संबंध अपराध नहीं

New Delhi : सुप्रीम कोर्ट ने महिला-पुरुष के विवाहेतर संबंधों से जुड़ी भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा-497 को रद्द कर दिया है. कोर्ट व्यभिचार के लिए केवल पुरुष को दोषी ठहराने वाली धारा की वैधता को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई कर रहा था. जिसके बाद यह फैसला सुनाया गया. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि जो प्रावधान महिला के साथ गैरसमानता का बर्ताव करता है, वह असंवैधानिक है. कोर्ट ने कहा कि महिला पुरुष एक समान है. वहीं विवाहेतर संबंध अपराध नहीं है.

Advt

इसे भी पढ़ें- ADG डुंगडुंग उतरे SP महथा के बचाव में, DGP को पत्र लिख कहा वायरल सीडी से पुलिस की हो रही बदनामी, करायें जांच

पति पत्नी का मालिक नहीं हो सकता

इस मामले में सुनवाई करने वाले चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने कहा कि महिला के साथ किसी भी तरह का असम्मान व्यवहार अंसैवाधिक है. लोकतंत्र की खूबी ही मैं, तुम और हम की है. कोर्ट ने कहा कि धारा 497 महिला के खिलाफ है. पति पत्नी का मालिक नहीं हो सकता है. विवाहेतर संबंध तब तक अपराध नहीं है जब तक वो आत्महत्या के लिए प्रेरित नहीं करता. लेकिन अगर इस वजह से आपका पार्टनर खुदकुशी कर लेता है, तो फिर उसे खुदकुशी के लिए उकसाने का मामला माना जा सकता है.

इसे भी पढ़ें- प्रधानमंत्री के दावे को गलत साबित कर रहा है सरकार का ही आंकड़ा

इन्होंने सुनाया फैसला

सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अगुवाई वाली पांच जजों की पीठ ने यह फैसला सुनाया. पीठ में जस्टिस आर एफ नरीमन, जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़, जस्टिस इंदू मल्होत्रा और जस्टिस ए एम खानविलकर शामिल थे. गौरतलब है कि जस्टिस दीपक मिश्रा ने अपना व जस्टिस एम खानविलकर का फैसला सुनाया. जिसके बाद अन्य तीन जजों जस्टिस नरीमन, जस्टिस चंद्रचूड़, जस्टिस इंदू मल्होत्रा ने भी उनके इस फैसले पर सहमति जताई.

इसे भी पढ़ें- लोकमंथन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि उपराष्ट्रपति, अध्यक्ष मुख्यमंत्री, राज्यपाल अतिथि तक नहीं

इन्होंने दायर की थी याचिका

केरल के एक अनिवासी भारतीय जोसेफ साइन ने इस संबंध में याचिका दायर की थी. दायर याचिका में आईपीसी की धारा-497 की संवैधानिकता को चुनौती दी गयी थी. जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने दायर याचिका को पिछले साल दिसंबर में सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया था. वहीं जनवरी में इसे संविधान पीठ को भेजा गया था. इस मामले में कोर्ट आठ अगस्त को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था. और आज इसपर फैसला सुनाया.

इसे भी पढ़ें- ‘इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियन सर्विसेस लिमिटेड’ की तेजी से बिगड़ती वित्तीय स्थिति

Advt

Related Articles

Back to top button