Court NewsLead NewsNational

मिर्जापुर वेब सीरीज निर्माता को सुप्रीम कोर्ट का नोटिस, मिर्जापुर की समृद्ध विरासत के अपमान का आरोप

New delhi : सुप्रीम कोर्ट ने मिर्जापुर वेब सीरीज के निर्माता व अमेजन प्राइम वीडियो को नोटिस किया है. एक याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह नोटिस जारी किया है. याचिका में आरोप गया है कि वेब सीरीज के जरिये मिर्जापुर जिले की छवि खराब की गई है. निर्माता व अमेजन प्राइम वीडियो से इसी आशय का जवाब मांगा गया है.

सुजीत कुमार सिंह ने वकील बिनय कुमार दास के माध्यम से याचिका दायर की है. जिसके तहत कहा है कि मिर्जापुर का सांस्कृतिक धरोहर काफी समृद्ध है, लेकिन 2018 में एक्सेल एंटरटेनमेंट ने 9 एपिसोड के मिर्जापुर नाम से एक वेब सीरीज लांच की, जिसमें मिर्जापुर को अवैध गतिविधियों वाला शहर दिखाया है, जो जिले की छवि खराब करता है.

इसे भी पढ़ें- सांसद निशिकांत दुबे की पत्नी अनामिका गौतम से जुड़ी एलोकेसी धाम की जमीन मामले में हाइकोर्ट ने सरकार से जवाब मांगा

मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ ने मामले में एक संक्षिप्त सुनवाई के बाद केंद्र, एक्सेल एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड और अमेज़न प्राइम वीडियो को नोटिस जारी किया. याचिका में यह भी कहा गया है कि वेब सीरीज से मिर्जापुर की लगभग 30 लाख आबादी और समृद्ध संस्कृति का अपमान हुआ है. याचिका के माध्यम से सरकार से आग्रह किया गया है कि किसी शहर के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक मूल्यों के खराब चित्रण पर रोक लगाने के लिए कुछ दिशानिर्देश बनाने चाहिए.

मालूम हो कि उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले में वेब सीरीज के निर्माता और ‘अमेजन प्राइम’ के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है. अरविंद चतुर्वेदी नाम के व्यक्ति ने मामला दर्ज कराया है. आरोप लगाया है कि ‘मिर्जापुर’ वेब सीरीज धार्मिक, सामाजिक और क्षेत्रीय भावनाओं को आहत करती है और सामाजिक सद्भाव को नुकसान पहुंचाती है. यह आरोप लगाया जाता है कि इस वेब सीरीज से धार्मिक भावनाओं और विश्वासों को बहुत चोट पहुंची है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: