न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सुंदर प्रसाद यादव भाजपा में आये और गये, स्टोरी इंट्रेस्टिंग

अपने सांसद का भाषण अपनी गाड़ी पर बैठकर सुन रहे थे. इतने में भाजपा पिछड़ा प्रकोष्ठ के एक यादव नेता को उनके आने की खबर लगी.

169

Dhanbad : चार साल पहले की बात है. उनके पैतृक निवास जमुई क्षेत्र के लोजपा सांसद यहां एक पब्लिक मीटिंग में आये थे. वह भी राष्ट्रीय जनता दल से झारखंड विकास पार्टी में जाने के बाद नाराज ही चल रहे थे. अपने सांसद का भाषण अपनी गाड़ी पर बैठकर सुन रहे थे. इतने में भाजपा पिछड़ा प्रकोष्ठ के एक यादव नेता को उनके आने की खबर लगी. मंच पर राज सिन्हा और कई नेता बैठे थे. उनलोगों ने प्लानिंग की. करीब 100-50 लोग सुंदर प्रसाद यादव जिंदाबाद कहते हुए उनकी गाड़ी के पास आये. उनको लेकर मंच पर चले गये. मंच से घोषणा कर दी कि हजारों समर्थकों के साथ सुंदर यादव भाजपा में शामिल हो गये. दो दिन बाद हाउसिंग कालोनी में पीएन सिंह ने उन्हें एक कार्यक्रम में बुला लिया और माला पहना दिया. इसके बाद रघुवर दास धनबाद आये तो उनको मंच पर बुला लिया. निरसा और बाघमारा का चुनाव प्रभारी बना दिया. इसके बाद तो इस पार्टी की जो स्थिति देखी, वह बर्दाश्त करने लायक नहीं थी. इस पार्टी में उनके जैसे पिछड़ों का कोई भविष्य भी नहीं है. यह सब देखकर दो माह पहले रांची जाकर डॉ अजय कुमार के समक्ष पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली. अध्यक्ष धनबाद यादव महासभा के रूप में सक्रिय सुंदर ने ददई दूबे की प्रशंसा की.

इसे भी पढ़ें – महाधिवक्ता अजित कुमार ने काले सरदार के भाई की जमीन की जमाबंदी रद्द कराने के लिए सरकार को दी गलत जानकारी, कोर्ट नाराज

अपने साथ भाजपा ज्वाइन करनेवाले उपेंद्र सिंह को खुद की तरह भाजपा में छला हुआ बताया. हालांकि मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल और मुख्यमंत्री रघुवर दास की प्रशंसा की. मगर साथ ही कहा कि भाजपा की धारा उनके अनुकूल नहीं. कांग्रेस के धनबाद विधानसभा क्षेत्र से टिकट पाने की आकांक्षा रखनेवाले सुंदर ने कहा कि पहले रास्ते में एक अड़चन थी. वह भी किनारे लग गया. बहुत जल्दी धनबाद में एक भव्य मिलन समारोह आयोजित कर कांग्रेस में शामिल होने की विधिवत घोषणा करेंगे.

इसे भी पढ़ें – दंतेवाड़ा में दूरदर्शन की टीम पर नक्सलियों का हमला, कैमरामैन की मौत-दो जवान शहीद

सांसद पीएन सिंह को बताया था बूढ़ा घोड़ा

मालूम हो कि कुछ दिन पहले सुंदर प्रसाद यादव ने धनबाद के भाजपा सांसद पीएन सिंह को बूढ़ा घोड़ा बताकर धनबाद की राजनीति के प्याले में तूफान ला दिया था. सुंदर यादव के इस बयान को अनुशासनहीनता करार देते हुए सांसद के समर्थक जिला भाजपा के पदाधिकारियों ने आनन-फानन में पार्टी की मीटिंग बुलाकर उन्हें पार्टी से निकालने का प्रस्ताव पारित कर प्रदेश कमेटी को भेजा था. सुंदर यादव ने कहा कि यह अलग बात है कि जिला कमेटी की उन्हें पार्टी से निकालने की अनुशंसा स्वीकार करने से प्रदेश समिति ने साफतौर पर इनकार कर दिया. इसके बाद भी उन्होंने भाजपा छोड़ने का फैसला लिया. इसलिए कि जहां दिल न मिले, कोई भविष्य न हो वहां रहने से क्या फायदा?

इसे भी पढ़ें – एक्शन में रघुवर दासः रेप केस में सुस्त कार्रवाई पर गिरिडीह एसपी को लगाई फटकार, सभी जिलों से मांगी…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: