न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

‘भाजपा का बयान हास्यास्पद, यह कैबिनेट की सरकार है या सुखदेव भगत की सरकार ‘

सुखदेव भगत ने कहा-उनके बयान को तोड़ मरोड़ कर पेश कर रही है सरकार

307

Lohardaga: भारतीय जनता पार्टी द्वारा भूमि अधिग्रहण संशोधन विधेयक को लेकर कांग्रेसी विधायक सुखदेव भगत के बहाने कांग्रेस पर किए गए प्रहार पर सुखदेव भगत ने पलटवार किया है. सुखदेव भगत ने कहा है कि यह भाजपा का काफी हास्यास्पद बयान है. भाजपा पहले यह बताए कि वह कैबिनेट में लिए गए फैसले की सरकार चला रही है या फिर सुखदेव भगत के कहने पर सरकार चल रही है. सरकार भूमि अधिग्रहण संशोधन विधेयक को लेकर बैकफुट की स्थिति में है. यह सच है कि टीएसी की बैठक में उन्होंने भूमि अधिग्रहण कानून को लागू करने की बात करी थी, पर इसमें संशोधन करने की बात कतई नहीं थी.


कांग्रेस के 2013 में लाए कानून को लागू करे सरकार- सुखदेव भगत
सरकार से वे आज भी कहते हैं कि सरकार अन्य राज्यों की तरह झारखंड में भी साल 2013 में कांग्रेस द्वारा लाए गए भूमि अधिग्रहण कानून को लागू करे. ना की भूमि अधिग्रहण संशोधन कानून को लागू किया जाए. उनके बयान को तोड़-मरोड़ कर प्रस्तुत किया जा रहा है. भाजपा झारखंड को उपनिवेश बनाना चाहती है. वह सीधे तौर पर कारपोरेट घरानों को लाभ पहुंचाना चाहती है. सुखदेव भगत ने कहा है कि जिस तरह से भाजपा सरकार द्वारा लाए गए सीएनटी-एसपीटी एक्ट का हाल हुआ है, उसी तरह से भूमि अधिग्रहण संशोधन विधेयक का भी हाल होगा. सरकार को यह विधेयक भी हर हाल में वापस लेना होगा. इस विधेयक को लेकर चारों और विरोध हो रहा है.

इसे भी पढ़ेंः पारा टीचर की हत्या के दोषी एनोस एक्का को उम्रकैद-एक लाख का जुर्माना, गयी विधायिकी


‘जनता को धोखा ले रही है सरकार’
सरकार कहती है कि वह स्कूलों के लिए जमीन लेना चाहती है, पहले तो सरकार यह बताएं कि जिस तरह से 5000 स्कूल बंद किए गए हैं, फिर ऐसे में किस स्कूल के लिए जमीन चाहिए. पावर ग्रिड के लिए जमीन चाहिए तो क्या किसी ग्रेड सेक्टर ने यह शिकायत की है कि उन्हें ग्रेड के लिए जमीन नहीं मिल पा रही है. सरकार जनता को धोखा दे रही है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: