Crime NewsJharkhandLead NewsRanchiSahibganjTOP SLIDER

महिला थाना प्रभारी सुसाइड केस: परिजनों ने सह कर्मियों व किसी पंकज मिश्रा पर टॉर्चर का लगाया आरोप

Sahibganj: महिला थाना प्रभारी रूपा तिर्की की मौत से पुलिस महकमा सकते में है. 2018 बैच की तेज तर्रार महिला पुलिस अधिकारी की इस तरह हुए मौत ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं.

ज्ञात हो कि रांची के रातु, कांटीटांड निवासी रूपा तिर्की जिला मुख्यालय के महिला थाना की प्रभारी के रूप में साहिबगंज में तैनात थीं. सोमवार को रूपा तिर्की का शव संदेहास्पद स्थिति में उसके फ्लैट गंगा के क्वार्टर यूएस 1 के कमरे में मिला था.

रूपा के परिवार वालों ने आरोप लगाया है कि उसके साथी पुलिस कर्मी उसकी सफलता को लेकर जलते थे और आए दिन रूपा को टॉर्चर किया करते थे. रूपा की मां ने बताया कि सोमवार दोपहर करीब 3 बजे रूपा से उसकी बात हुई थी. बातचीत के दौरान रूपा ने बताया था कि उसने जो पानी पिया है वो दवाई जैसा लग रहा है.

इसे भी पढ़ें :कोरोना इफेक्ट : नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने स्थगित की JEE Main की परीक्षा

मां ने बताया कि उसकी सहकर्मी ह्यूमन ट्रैफिकिंग थाना प्रभारी मनीषा और नगर थाना में पदस्थापित ज्योत्सना, रूपा के पदोन्नति से जलते थे. रूपा के महिला थाना प्रभारी बनने, क्वार्टर और गाड़ी मिलने पर दोनो अक्सर उसे टॉर्चर किया करते थे.

वहीं रूपा की बहन निर्मला तिर्की ने बताया कि कुछ दिन पहले भी मनीषा और ज्योत्सना ने रूपा को लेकर किसी पंकज मिश्रा से मिलवाया था. जहां तीनो ने मिलकर रूपा को काफी प्रताड़ित भी किया था.

हालांकि किस तरह से उसे प्रताड़ित किया गया था ये उसने नहीं बताया. उसने कहा कि उसके साथ गलत व्यवहार किया गया था.

इसे भी पढ़ें :कोरोना संकट: विभागों को CM का निर्देश, कोई भी नीति या योजना बनाते समय दूरगामी परिणाम का रखें ध्यान

रूपा के चाचा बसंत तिर्की ने प्रेस को बताया कि रूपा के गले में दो निशान हैं जबकि आत्महत्या के मामले में एक ही निशान होते है.

इसके साथ ही पंखे और पलंग की दूरी काफी कम है. शव पंखे के सहारे तो था पर घुटने पलंग पर मुड़े हुए थे. शरीर पर चोट के कई निशान भी थे और मुंह से झाग निकल रहा था.

बसंत तिर्की ने बताया कि रूपा आधे अधूरे कपड़े में थी. वहीं सूत्रों की माने तो रूपा के पास कोई हाई प्रोफाइल केस था जिसे मैनेज करने की कोशिश की जा रही थी.

इधर पुलिस अधीक्षक अनुरंजन किस्पोट्टा ने प्रेस को बताया कि प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का प्रतीत होता है. परिजनों ने लिखित आवेदन दिया है. हर बिंदु की जांच की जाएगी. उन्होंने कहा की मामले की गहराई से छानबीन की जा रही है.

जांच टीम का गठन किया गया. पूरी प्रक्रिया में पारदर्शिता के लिए मजिस्ट्रेट के समक्ष सारी प्रक्रिया करायी गई है. वहीं मेडिकल बोर्ड से शव का पोस्टमार्टम कराया गया है.

इसे भी पढ़ें :बड़ी खबर : पूर्वी रेलवे जोन ने धनबाद से चलने वाली 16 ट्रेनें की रद्द, सात में नहीं चलेंगी ये ट्रेनें

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: