न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सुशासन बाबू के बिहार में अपराधी बेकाबू, अब ट्रांसपोर्टर की हत्या

1,899

Patna: बिहार इन दिनों लगातार सुर्खियों में है. ये सुर्खियां सुशासन बाबू की सरकार पर सवालिया निशान लगा रही है, क्योंकि राज्य की विधि व्यवस्था पर सवाल उठ रहे हैं. 20 दिसंबर को राजधानी पटना के व्यवसायी की वैशाली में हुई हत्या के बाद अब राजधानी में एक और हत्या हुई है. बेखौफ अपराधियों ने कानून-व्यवस्था की धज्जियां उड़ाते हुए ट्रांसपोर्ट नगर में व्यवसाय करनेवाले एक ट्रांसपोर्टर दीनानाथ राय की गोली मारकर हत्या कर दी. ट्रांसपोर्टर दीनानाथ राय का शव NH-19 पर हाजीपुर सर्किट हाउस के ठीक सामने से बरामद हुआ. उन्हें दो गोलियां मारी गई थीं. फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी है.

हत्या कर शव को सर्किट हाउस के पास फेंका गया !

मामले की जांच में जुटी पुलिस का कहना है कि दीनानाथ की हत्या कहीं दूसरी जगह करने के बाद अपराधियों ने लाश को सर्किट हाउस के ठीक सामने फेंक दिया है. पुलिस का तर्क है कि मौके से खून के किसी तरह की धब्बे नहीं मिले हैं. इससे ये जाहिर होता है कि गोली कहीं और मारी गई थी.

मिली जानकारी के अनुसार ट्रांसपोर्टर दीनानाथ अपने घर वैशाली जिले के गोरौल सोन्धो से मंगलवार देर शाम पटना ऑफिस के लिए निकले थे, लेकिन देर रात उनका शव NH-19 पर हाजीपुर सर्किट हाउस के सामने मिला. इधर, हत्या के बाद हाजीपुर सदर अस्पताल में पहुंचे परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है.

लोगों में आक्रोश भी, दहशत भी

एक हफ्ते में बिहार में जिस तरह से व्यवसायियों को अपराधियों ने निशाना बनाया है. उससे व्यवसायी वर्ग में प्रशासन के खिलाफ नाराजगी भी है और दहशत भी. ज्ञात हो कि वैशाली जिला के औद्योगिक थाना अंतर्गत पासवान चौक के नजदीक गुरूवार को पटना के एक बड़े व्यवसायी और जे के काटन कंपनी के मालिक गोपाल खेमका के पुत्र और प्रदेश में सत्ताधारी पार्टी भाजपा के लघु उद्योग प्रकोष्ठ के संयोजक गुंजन खेमका की अज्ञात अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी. बेखौफ बदमाशों ने उन्हें तीन गोलियां मारी थी, जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गई थी.

इस दौरान उनके ड्राइवर पर भी गोली चलाई गई थी. जबकि 21 दिसंबर को मुजफ्फरपुर में एक ठेकेदार की हत्या हुई थी. वही उसके दूसरे दिन दरभंगा में एक व्यवसायी को सरेराह अपराधियों ने गोली मार दी थी.

ज्ञात हो कि गिरते कानून-व्यवस्था के खिलाफ सोमवार शाम व्यवसायियों ने कैंडल मार्च निकाला था. जिसमें नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी शामिल हुए थे. और इस दौरान उन्होंने राज्य में बढ़ती आपराधिक घटनाओं के लिए नीतीश सरकार पर निशाना साधा था.

जानें चार सालों में रघुवर सरकार ने विज्ञापन पर कितना किया खर्च

जानें गृह सचिव ने डीजीपी से क्या कहा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: