न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दो अक्टूबर से स्वराज स्वाभिमान यात्रा पर निकलेंगे सुदेश

दो हजार किलोमीटर की पदयात्रा और ढाई लाख लोगों से सीधा संवाद

163

Ranchi: आजसू पार्टी के केंद्रीय अध़्यक्ष सुदेश कुमार महतो राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर दो अक्टूबर से स्वराज स्वाभिमान यात्रा की शुरुआत करेंगे. इस यात्रा के दौरान पूरे राज्य के तीन सौ ब्लॉक और नगर पंचायतों के पांच हजार गांवों से गुजरते हुए दो हजार किलोमीटर की पदयात्रा और ढाई लाख लोगों से सीधा संवाद करेंगे.

इसे भी पढ़ें: ‘कॉल ड्रॉप’ से परेशान प्रधानमंत्री, जानिए कब और कहां होती है पीएम मोदी को परेशानी

11 दिनों में 11 प्रखण्ड, 55 पंचायत, 200 गांव होते हुए 150 किमी की पद यात्रा की जाएगी

पहले चरण में दो अक्तूबर को मांडू के हेसालौंग में झारखंड आंदोलनकारी जयंत गांगुली की प्रतिमा पर माल्यापर्ण कर वह यात्रा की शुरुआत करेंगे. मांडू से निकलने वाली यात्रा गोमिया, बेरमो, डुमरी, सिंदरी होते हुए 11 अक्तूबर को टुंडी पहुंचेंगी. 11 दिनों के पहले चरण में 11 प्रखण्ड, 55 पंचायत, 200 गांव होते हुए 150 किमी की पद यात्रा की जाएगी. पहले चरण मे ही एक लाख लोगों से सीधा संवाद होगा. कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए पंचायत से केंद्रीय स्तर पर पार्टी के नेताओं-कार्यकर्ताओं की जिम्मेवारी तय की गई है.

इस यात्रा के जरिए लोगों से विमर्श कर सुदेश महतो यह जानने समझने की कोशिश करेंगे कि महात्मा गांधी ने स्वराज की जो अवधारणा तय की थी उसके मायने कितना साकार हो रहे हैं. साथ ही वह आम जन की परेशानी से अवगत होने के साथ सामजिक राजनीतिक रिश्ता मजबूत बनाने के लिए लोगों से सीधा संवाद करेंगे.

इसे भी पढ़ें: बच्चों की किताबों पर हर साल 150 करोड़ का वारा न्यारा, खेल में ब्यूरोक्रेट्स भी खिलाड़ी

सुदेश ने बताया स्वराज स्वाभिमान यात्रा का क्‍या है मकसद

palamu_12

अपने यात्रा के बारे में सुदेश महतो का कहना है कि गांधी ने स्वराज की अवधारणा में यह देखा था कि लोकतंत्र की बुनियाद नीचे से मजबूत होते हुए ऊपर तक जाए और शक्ति का केंद्र बिंदु आम आदमी तथा उसका समूह हो, जो आपसी संबंधों में जुड़ा रहे. तब शीर्ष पर जो परोक्ष व्यवस्थाएं होंगी,  उनका नियंत्रण नीचे से होगा. गांधी जी की परिकल्पना थी तरक्की की कसौटी समाज का वह अंतिम आदमी होगा, जो तमाम सुविधाओं से वंचित है. इस कसौटी में झारखंड कहां खड़ा है, इसका जवाब इस यात्रा में तलाशा जाएगा.

सीधा संवाद करेंगे

उन्‍होंने बताया कि स्वराज स्वाभिमान यात्रा के दौरान पार्टी के अध्यक्ष पंचायत, छात्र, मजदूर संगठनों के प्रतिनिधियों, ग्राम प्रधान, महिला समूहों के साथ समाज के उन बुद्धिजीवियों के साथ श्री महतो रायशुमारी करेंगे, जो स्थानीय लोगों के बीच नेतृत्व करतें हैं और राय बनाते हैं. साथ ही ग्रामसभा, पारंपरिक व्यवस्था के मायने क्या हैं और झारखंड में इसे शासन प्रशासन कितना प्रभावी समझता है और बनाया है इस मामले में भी आम लोगों के साथ चर्चा की जाएगी.

सुदेश ने बताया कि इस यात्रा के सत्ता विकेंद्रीकरण के पैमाने पर झारखंड कहां खड़ा है इस विषय पर भी जनमत तैयार किया जाएगा. भौगौलिक प्रशासनिक, भाषाई और सांस्कृतिक दृष्टिकोण से अलग राज्य बनने के 18 साल बाद झारखंड में ग्राम सभा की ताकत और पारंपरिक व्यवस्था किस भूमिका में है, इस पहलू पर भी लोगों से सीधी बातें होगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: