HEALTHJharkhandRanchi

स्टॉफ व डॉक्टर को बचाते हुए कोरोना मरीज के सफल इलाज से साबित हुआ कि जीत हमारी होगी : राज अस्पताल

  • कोरोना पॉजिटिव मरीज के सफल इलाज से निडरता एवं सुरक्षा का नया मानक आया सामने

Ranchi : कोरोना महामारी को लेकर जहां चारों ओर डर का माहौल है, वहीं राजधानी के प्रतिष्ठित राज अस्पताल ने इस महामारी से डर का डटकर मुकाबला किया है.

इसी का परिणाम है कि इस अस्पताल ने सीधे संपर्क में आये स्टाफ एवं डॉक्टर को बचाते हुए एक कोरोना पॉजिटिव मरीज़ का सफलतापूर्वक इलाज किया है.

अस्पताल के सीईओ साहिल गंभीर ने कहा है कि सफल इलाज ने यह सिद्ध किया है कि जीत हमारी होगी.

बता दें कि एक मरीज जिसका नियमित डाइलिसिस अस्पताल की नेफ्रोपल्स डायलिसिस यूनिट में हो रहा था. कुछ दिन पहले कोरोना पॉज़िटिव पाया गया.

लेकिन सभी स्टाफ एवं डॉक्टर जो कि मरीज के प्राथमिक संपर्क में थे, जांच के बाद निगेटिव पाये गये.

इसे भी पढ़ें : #Lockdown: निजी स्कूल के फीस लेने पर 3 माह तक रोक, आगे के फैसलों के लिए कमिटी गठित

जिला प्रशासन तथा सिविल सर्जन का सहयोग प्रशंसनीय

साहिल गंभीर ने कहा है कि यह केवल अस्पताल द्वारा जागरुकता तथा संक्रमण प्रबन्धन की तैयारी से हो सका है. कुछ संदिग्ध मरीजों की नियमित जांच करायी जा रही थी.

यही मरीज पूर्व जांच में निगेटिव आ रहा था, उसके उपरांत भी जांच एवं सतर्कता का सिलसिला जारी रखा गया. पॉज़िटिव आने के बाद मरीज को रिम्स की कोविड यूनिट में रेफर कर दिया गया.

इस लड़ाई को सफलतापूर्वक लड़ने में जिला प्रशासन विशेषकर रांची डीसी राय महिमापत रे तथा सिविल सर्जन वीबी प्रसाद का बहुत सहयोग रहा. यह काफी प्रशंसनीय है.

समय-समय पर जांच एवं निशुल्क पीपीई किट जिला प्रशासन द्वारा दिलायी गयी तथा इनके निर्देशों पर अस्थायी आइसोलेशन इकाई तैयार की गयी.

इसे भी पढ़ें : #Corona : जामताड़ा में एक और कोरोना पॉजिटिव, राज्य में संक्रमितों की संख्या 106 हुई

बिना संतुलन खोये इलाज कर स्टॉफ और डॉक्टरों ने किया सफल इलाज

उन्होंने कहा कि इस सफल इलाज के लिए अस्पताल प्रबंधन न केवल जिला प्रशासन बल्कि सभी स्टाफ एवं इंफेक्शन कंट्रोल टीम का आभारी रहेगा.

सभी स्टाफ एवं डॉक्टरों द्वारा बिना संतुलन और मनोबल खोये, आज इस गंभीर बीमारी का सफलतापूर्वक सामना कर इन्होंने एक प्रशंसनीय उदाहरण पेश किया है.

राज अस्पताल का यह काम सभी बाधाओं को तोड़,  नये मानक स्थापित कर झारखंड तथा आसपास के राज्यों के गंभीर मरीजों के लिए आज एक वरदान है.

इसे भी पढ़ें : #RIMS निदेशक ने कहा था- पद छोड़ने के लिए अभी स्थिति अनुकूल नहीं; फिर भी स्वास्थ्य मंत्री ने कर दी अनुशंसा

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: