न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सुब्रमण्यम  स्वामी ने कहा, राहुल गांधी कभी भी पीएम नहीं बन सकते, क्योंकि….

द्रमुक अध्यक्ष एमके स्टालिन ने कहा कि विपक्ष की तरफ से पीएम उम्मीदवार राहुल गांधी होने चाहिए. कहा कि राहुल में भाजपा को हराने की ताकत है.

1,575

NewDelhi : भारतीय जनता पार्टी के राज्सयभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कभी भी देश के प्रधानमंत्री नहीं बन सकते हैं.  बता दें कि 2019 लोकसभा चुनाव सर पर है. मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद द्रमुक अध्यक्ष एमके स्टालिन ने कहा कि विपक्ष की तरफ से पीएम उम्मीदवार राहुल गांधी होने चाहिए. कहा कि राहुल में भाजपा को हराने की ताकत है. उसके बाद कई विपक्षी दलों के तेवर तल्ख हो  गये हैं. इस बहस के बीच  सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी देश के प्रधानमंत्री कभी भी नहीं बन सकते हैं.  न्यूज एजेंसी एएनआई से हुई बातचीत में सोमवार, 17 दिसंबर को स्वामी ने कहा, मुझे समझ में नहीं आता कि आखिर कुछ राजनीतिक दल राहुल को देश का अगला पीएम क्यों घोषित कराना चाहते हैं; कहा कि वह लिखित तौर पर यह कबूल चुके हैं कि वे ब्रिटिश नागरिक हैं, लिहाजा वह कभी भी भारत के पीएम नहीं बन सकते. इस क्रम में स्वामी ने कहा, भाजपा के नेता लाल कृष्ण आडवाणी की अध्यक्षता वाली एथिक्स कमेटी ने मेरी शिकायत ठंडे बस्ते में डाल दी थी.  लेकिन गृह मंत्रालय इस मामले की जांच-पड़ताल कर रहा है.

स्टालिन का बयान विपक्ष के कई दलों को पच नहीं रहा   ‏

Related Posts

 नजरबंद उमर अब्दुल्ला हॉलिवुड फिल्में देख रहे हैं, महबूबा मुफ्ती किताबें पढ़ समय बिता रही हैं

जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले आर्टिकल 370 के प्रावधानों को खत्म करने के फैसले से पहले कश्मीर के कई राजनेता नजरबंद किये गये थे.

SMILE

हालांकि राहुल को पीएम उम्मीदवार बनाने को लेकर स्टालिन का  बयान विपक्ष के कई दलों को पच नहीं रहा है. इनमें सपा, बसपा, रांकपा, तेदेपा व टीएमसी शामिल हैं. इनका विचार है कि पीएम प्रत्याशी पर समय से पूर्व फैसला विपक्षी खेमे को बांटने का काम करेगा; तृणमूल कांग्रेस  के अनुसार राहुल पीएम उम्मीदवार समय से पहले दिया गया बयान है.  इस क्रम में पीटीआई;भाषा से एक टीएमसी नेता ने कहा, लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद विपक्षी पार्टियों द्वारा चर्चा के बाद ही प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के नाम पर फैसला लिया जाना चाहिए.  किसी भी तरह के एकपक्षीय फैसले से गलत संदेश जायेगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: