National

#JNU हमले के विरोध में छात्रों ने निकाला जुलूस, पुलिस ने रोका

New Delhi: दिल्ली पुलिस ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय की तरफ बढ़ रहे छात्रों और नागरिक संस्थाओं के सदस्यों के जुलूस को शास्त्री भवन के पास रोक दिया.

नागरिक संस्थाओं के सदस्यों और छात्रों समेत सैकड़ों लोगों ने जेएनयू में हुए हमले के विरोध में गुरुवार को सड़क पर उतर कर प्रदर्शन किया और विश्वविद्यालय के कुलपति के इस्तीफे की मांग की.

इसे भी पढ़ें- जानिये IPS दीपिका एम पाटिल को, जिन पर है महिलाओं को न्याय दिलाने की जिम्मेदारी

advt

माकपा के कई नेता जुलूस में शामिल

माकपा नेता सीताराम येचुरी, प्रकाश करात, बृंदा करात, भाकपा महासचिव डी राजा और लोकतांत्रिक जनता दल के प्रमुख शरद यादव भी जुलूस में शामिल थे. हाथ में तख्तियां लेकर प्रदर्शनकारियों ने मंडी हाउस से जुलूस निकाला.

adv

प्रदर्शनकारी हल्ला बोल और इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे. तख्तियों पर “सीएए नहीं, एनआरसी नहीं”, “विश्वविद्यालय परिसर में घुसने पर एबीवीपी पर प्रतिबंध लगाओ”, “हिंसा त्याग करो”, “शिक्षा खरीदने बेचने की चीज नहीं है” के नारे लिखे हुए थे.

इसे भी पढ़ें- #CAA_ JNU_Violence : JNU के छात्र, लेफ्ट के नेता मंडी हाउस में जुटे, मार्च का आयोजन

बृंदा करात ने भाजपा सरकार पर साधा निशाना

भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए बृंदा करात ने कहा कि लोगों ने आवाज उठानी शुरू कर दी है और यह वो लोग स्वीकार नहीं करना चाहते. वे फर्जी कहानियां बुन रहे हैं कि विरोध का छात्रों से कोई लेना-देना नहीं है बल्कि यह राजनैतिक है.

येचुरी ने कहा कि तीन घंटे तक नकाबपोशों ने विश्वविद्यालय के छात्रों को पीटा. वे परिसर में घुसे तब पुलिस मुख्य द्वार पर मौजूद थी. उन्होंने आरोप लगाया कि कुलपति की जानकारी के बिना घटना नहीं हो सकती थी और कुलपति को जाना चाहिए. 

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button