Education & Career

झारखंड के विद्यार्थी अपनी स्पीकिंग स्किल बेहतर करेः डॉ नितिन मदन कुलकर्णी

Ranchi: ” झारखंड की पृष्ठभूमि में मैंने विद्यार्थियों को सेकंड लैंग्वेज एक्विजिसन में पाया कि उनकी राइटिंग स्किल तो फिर भी ठीक है, पर स्पीकिंग स्किल पर बहुत काम करना है. वे मेहनती हैं. पर दिशा की जरूरत है.”
ये बातें डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी विश्वविद्यालय के आउटगोइंग कुलपति और दक्षिणी छोटानागपुर के आयुक्त डॉ नितिन मदन कुलकर्णी ने डिपार्टमेंटल ऑफ इंग्लिश लैंग्वेज एंड लिटरेचर ( ई एल एल) के शिक्षक दल से थैंक्स गिविंग मुलाकात के दौरान कही. शिक्षक दल ने कुलकर्णी को मोमेंटो प्रदान किया और विभाग की बेहतरी के लिए मार्गदर्शन प्राप्त किया.

गौरतलब हो कि कुलपति पद पर रहते हुए डिपार्टमेंट ऑफ ई एल एल को स्थापित करने में डॉ कुलकर्णी की अहम भूमिका रही. इस मौके पर उन्होंने कहा कि ” मैंने विभिन्न अनुभवों के दौरान यह पाया है कि हिंदी बोलते वक़्त भी अभ्यर्थी न्यूट्रल एक्सेंट में बात नहीं कर पाते. उनकी पहली मातृ भाषा हावी रहती है. कई अभ्यर्थियों के लिए अंग्रेज़ी थर्ड लैंग्वेज एक्विजिसन है.

इसे भी पढ़ें:रांची पुलिस के 8 इंस्पेक्टर का सीआइडी में तबादला

Catalyst IAS
ram janam hospital

उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को चाहिए कि वे अपने जीवन को ऐसे सांचे में ढालें कि प्रतियोगिता परीक्षा में और किसी भी साक्षात्कार में वे एक ज़िम्मेदार और सुलझे हुए व्यक्तित्व के तौर पर नज़र आयें. वे नियमित तौर से अपने एक बेहतरीन हॉबी पर भी काम करें. डायरी लिखने या नेट सर्फिंग जैसी हॉबी से बचें.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

ये इंटरव्यू बोर्ड पर नकारात्मक प्रभाव डालते हैं. इसके बदले कोई संजीदा हॉबी मसलन करेंट अफेयर्स, स्पोर्ट्स, मोबाइल रिपयरिंग आदि को बतौर हॉबी डेवलप करें, जिससे लाइफ स्किल भी बढ़े.

इस मौके पर डिपार्टमेंटल ऑफ ईएलएल के को-ऑर्डिनेटर डॉ विनय भरत, फैकल्टी सौरभ मुखर्जी, कर्मा कुमार, श्वेता गौरव और शुभांगी रोहतगी भी मौजूद रहे.

इसे भी पढ़ें:यूनिफर U-23, 5 नेशन हॉकी प्रतियोगिता: भारतीय टीम बनी उप विजेता, झारखंड की ब्यूटी डुंगडुंग को प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट का पुरस्कार

Related Articles

Back to top button