JamshedpurJharkhand

Jamshedpur : टिनप्लेट खेल मैदान में चिन्मया विद्यालय के विद्यार्थियों ने किया योग, प्रिंसिपल ने कहा- शरीर तथा मस्तिष्क के संबंधों में संतुलन बनाता है योग

Jamshedpur : टिनप्लेट खेल मैदान में सत्यानंद योग केंद्र की ओर से आयोजित योग सत्र में विद्या भारती चिन्मया विद्यालय की आठवीं कक्षा के 32 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया, जिसमें 9वीं कक्षा की छात्रा अद्विका अनंत योग प्रदर्शिका की भूमिका में थी. प्राचार्या मीना विल्खू , उप प्राचार्य मान सिंह, खेल विभाग के पूर्व शिक्षक बीपी यादव तथा अन्य शिक्षक शिक्षिकाएं उपस्थित थे. प्राचार्या मीना विल्खू ने इस दिवस विशेष की दैनिक महत्ता पर बल देते हुए योग को शिक्षक तथा छात्र जीवन का अनिवार्य अंग बताया. उन्होंने कहा कि “योग: कर्मसु कौशलम् ” – योग क्रिया में कौशल है.

प्राचार्या ने बताया कि योग कला की उत्पत्ति प्रचीन भारत में हुई थी. पहले के समय में बौद्ध तथा हिन्दू धर्म से जुड़े लोग योग और ध्यान का प्रयोग करते थे. योग कई प्रकार के होते हैं  जैसे- राज योग, जन योग, भक्ति योग, कर्म योग, हस्त योग. आमतौर पर हस्त योग के अन्तर्गत बहुत से आसनों का भारत में अभ्यास किया जाता है. हम सभी के जीवन में योग काफी महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह शरीर तथा मस्तिष्क के संबंधों में संतुलन बनाने में हमारी काफी सहायता करता है. 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में दुनिया भर में मनाया जाता है. 2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में इसकी स्थापना के बाद पहली बार 21 जून 2015 को मनाया गया था. योगाभ्यास शरीर को ब्रह्मांड ऊर्जा से भर देता है और पूर्ण संतुलन और सद्भाव की प्राप्ति की सुविधा देता है.
ये भी पढ़ें- International yoga day: टाटा स्टील के खेल विभाग ने मनाया अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

Related Articles

Back to top button