न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

छात्राओं ने की फरियाद- शिक्षक आते नहीं कैसे करें पढ़ाई

पढ़ाई छोड़ डीईओ कार्यालय गयीं छात्राएं, स्कूल प्रबधंन के खिलाफ की शिकायत

64

Ranchi: श्री शिव नारायण मारवाड़ी विद्यालय की छात्राओं ने भ्रष्टाचार उन्मूलन संघ के नेतृत्व में जिला शिक्षा पदाधिकारी से स्कूल की लचर व्यवस्था के खिलाफ लिखित शिकायत की. छात्राओं ने डीईओ को बताया कि स्कूल की व्यवस्था पूरी तरह बिगड़ चुकी है. छात्राएं पढ़ने तो आती हैं. लेकिन कक्षाएं समय पर नहीं होती, शिक्षक आये दिन क्लास से नदारत रहते हैं, स्कूल में आधारभूत संरचनाओं की भी कमी है. जबकि सिर्फ नौवीं और दसवीं में 400 छात्राएं हैं. छात्राओं ने डीईओ को यह भी बताया विद्यालय की ऐसी स्थिति कोई नयी नहीं है, लगभग तीन साल से स्कूल की यही स्थिति है. जहां एक दिन में सात कक्षाओं के बजाय मात्र एक या दो कक्षाएं ली जाती हैं. इस पर डीईओ ने उचित कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है.

शिकायत करने पर प्राचार्य़ मे छात्राओं को ही डांटा

छात्राओं ने कहा कि नियमित कक्षाएं लेने के लिए कई बार प्राचार्य से शिकायत की गयी है, लेकिन प्राचार्य ने हर बार छात्राओं को ही डांट पिलाई. छात्राओं ने बताया कि कई बार प्राचार्य से शिकायत की गयी, लेकिन प्राचार्य की ओर से कहा जाता है कि जो पढ़ाई हो चुकी है वो तो तुमलोगों को याद नहीं, आगे पढ़ के क्या करोगी. छात्राओं ने बताया कि ऐसे में स्कूल में पूरा समय बर्बाद हो जाता है. छात्राएं स्कूल तो आतीं है लेकिन बिना कुछ सीखे वापस चली जाती हैं.

स्कूल में मात्र चार शिक्षक

विद्यालय की वर्तमान स्थिति काफी दयनीय है. छात्राओं की अधिक संख्या होने के बाद भी यहां मात्र चार शिक्षक    हैं. जिनमें इतिहास, संस्कृत, रसायन शास्त्र और जीव विज्ञान के शिक्षक ही स्कूल में है. इन छात्राओं ने बताया कि यहां मैथ्स के लिए एक शिक्षक हैं, जो कभी भी नियमित कक्षाएं नहीं लेते, यहां तक कि स्कूल भी नहीं आते हैं. डीईओ से मिलने नौवीं और दसवीं कक्षा की छात्राएं गयीं थीं. जिन्होंने आनेवाली परीक्षा के लिए चिंता जतायी.

जिला स्कूल में ली जायेगी कक्षाएं

डीईओ ने छात्राओं को आश्वासन देते हुए कहा कि नौवीं और दसवीं की छात्राओं की कक्षाएं जिला स्कूल में एक साथ लेने की व्यवस्था की जायेगी. इस पर भ्रष्टाचार उन्मूलन संघ के कार्यकर्ताओं ने आपत्ति जताते हुए कहा कि छात्राएं श्री शिव नारायण मारवाड़ी कन्या पाठशाला के बजाय जिला स्कूल में कैसे पढ़ने जायेंगी. इस दौरान अगर छात्राओं के साथ कोई घटना होती है तो इसकी जिम्मेवारी कौन लेगा. संघ के ब्रजेश कुमार ने बताया कि इस पर डीईओ की ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया.

इसे भी पढ़ें – यदि ढाई लाख का है सालाना कारोबार तो बनाना होगा पैन कार्ड, देना पड़ेगा रिटर्न

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: