Lead NewsWorld

अफगानिस्तान में छात्राओं के सपोर्ट में आए छात्र, कहा- जब तक लड़कियां स्कूल नहीं आती, हम भी नहीं जाएंगे

Kabul :  काबुल पर तालिबान के कब्जे के करीब 35 दिनों के बाद अफगानिस्तान में फिर से स्कूल खुल रहे हैं. तालिबान ने कहा है कि अभी सिर्फ लड़के स्कूल जा सकेंगे. लड़कियों के स्कूल जाने को लेकर तालिबान ने अब तक साफ-साफ नहीं कहा है लेकिन अब तक लड़कियां स्कूलों से दूर हैं. ऐसे में अफगानिस्तान के लड़के, लड़कियों के सपोर्ट में स्कूल नहीं जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के खिलाफ अमर्यादित टिप्पणी करनेवाले डॉ ओपी आनंद को हाइकोर्ट से मिली जमानत

12 साल से अधिक उम्र की लड़कियों को मनाही

हालांकि तालिबान द्वारा 12 साल तक की लड़कियों को स्कूल जाने दिया जा रहा है लेकिन इससे अधिक उम्र की लड़कियों को मासिक धर्म आदि का हवाला देते हुए स्कूल से दूर किया जा रहा है. 18 साल के रोहुल्लाह वॉल स्ट्रीट जर्नल से बात करते हुए बताते हैं कि मैं तालिबान के साथ अपनी असहमति जताते हुए लड़कियों के स्कूल जाने से मना करने का विरोध करने के लिए आज स्कूल नहीं गया था.

advt

विरोध कर रहे लड़कों का कहना है कि महिलाएं इसी समाज का हिस्सा है. आधी आबादी को सारे हक मिलने चाहिए. लड़कियों को स्कूल से दूर रखकर तालिबान ने साबित किया है वह नहीं बदले हैं. हम तब तक स्कूल नहीं जाएंगे जब तक कि लड़कियों को स्कूल जाने की इजाजत नहीं दी जाती.

इसे भी पढ़ें :ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक को दिल्ली HC से झटका, ED के समन पर रोक लगाने से इनकार

adv

सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा

कुदसिया कांबरी काबुल पर तालिबान के कब्जे से पहले अफगानिस्तान के स्कूलों में पढ़ाती रही हैं. उन्होंने एक सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा है कि अगर मैं एक लड़का होती तो तब तक स्कूल नहीं जाती जब तक कि मेरी बहन भी स्कूल नहीं जा सकती.

तालिबान के सत्ता में आने से पहले देश छोड़ने वाले अफगानिस्तान के एक कार्यकर्ता और लेखक आर्यन अरुण ने वॉशिंगटन पोस्ट को बताया है कि लड़कियों को स्कूल जाने से रोकना उन्हें जिंदा दफनाने जैसा है.

इसे भी पढ़ें :कनाडा चुनाव में भारतीय मूल के लोगों का शानदार प्रदर्शन, जगमीत व हरजीत सज्जन सहित 18 विजयी

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: