ChaibasaJamshedpurJharkhandNEWS

JAMSHEDPUR : गुड़ाबांधा के चुड़िया और पावड़ा पहाड़ में पन्ना खनन का जोरदार विरोध, ग्रामीणों ने गाजे-बाजे के साथ निकाला विशाल जुलूस

GHATSHILA : घाटशिला के गुड़ाबांधा प्रखंड के चुड़ियाबुढ़ी एवं पावड़ा पहाड़ में पन्ना खनन का जोरदार विरोध शुरु हो गया है. इसके खिलाफ ग्रामीणों ने गाजे-बाजे के साथ विशाल जुलूस निकाला. इस जुलूस में सैकड़ों की संख्या में पुरुषों के अलावा महिलाएं भी शामिल रही. बता दें कि सरकार ने चुड़ियाबूढ़ी और पावड़ा पहाड़ के कुछ अंश में पन्ना खदान खोलने का निर्णय लिया है. इसे अंचल कार्यालय की ओर सीमांकन का काम भी शुरु कर दिया गया है. ग्रामीण इसी का विरोध कर रहे हैं.
ज्वालकाटा से निकला जुलूस
इससे पहले ग्रामीण ज्वालकाटा के मिलनबिथि चौक पर इकट्ठा हुए. वहीं से ढ़ोल-नगाड़े के साथ सभी जुलूस की शक्ल में गुड़ाबांधा प्रखंड कार्यालय पहुंचें. जुलूस में गुड़ाबांधा क्षेत्र के 28 मौजा के ग्रामीणों का नेतृत्व संयुक्त ग्राम सभा के अध्यक्ष नायकनशोल के माझी बाबा जदुनाथ हांसदा, जिला पार्षद शिवनाथ मांडी, जिला पार्षद हेमंत मुंडा एवं कई गांवों के माझी बाबा कर रहे थे. अंचल कार्यालय पहुंचकर उन्होंने अंचल अधिकारी को एक मांग पत्र सौपा. इसमें चुड़िया और पावड़ा पहाड़ में पन्न खदान के नाम पर हो रही घेराबंदी को हटाने की मांग करते हुए पन्न खनन का विरोध किया गया. मालूम हो कि इस मामले में बीते महीनों से गुड़ाबांधा प्रखंड क्षेत्र के कई गांवों के मांझी बाबा संयुक्त ग्राम सभा का गठन कर विरोध जता चुके हैं. शुक्रवार को ज्ञापन की प्रतिलिपि उपायुक्त, अनुमंडल पदाधिकारी, खनन पदाधिकारी साथ ही अन्य पदाधिकारियों को भी भेजी गई.

सरकार अपनी नीयत साफ करे : पार्षद
मौके पर गुड़ाबांधा के पार्षद शिवनाथ मांडी एवं धालभूमगढ़ के पार्षद हेमंत मुंडा ने कहा कि अगर उस क्षेत्र में पन्ना खदान खोलने की बात थी तो पहले ग्राम सभा करना चाहिए था. बगैर ग्राम सभा कराए ही अंचल कार्यालय की ओर से सीमांकन करना समझ से परे है. पावड़ा पहाड़ एवं चुड़ियाबुढ़ी पहाड में लोग घर बनाकर वर्षो से रहते है. सरकार को पहले यह साफ करना चाहिए कि उस क्षेत्र के ग्रामीणों का क्या होगा. झारखंड में खनिज संपदा होते हुए भी यहां के युवा एवं मजदूर पलायन करते है. क्या पन्ना खदान खोलने से मजदूरों का पलायन बंद होगा. क्षेत्र का विकास करने के लिए ग्रामीणों की राय लेना भी जरूरी होता है.

ये भी पढ़ें- JAMSHEDPUR : धालभूमगढ़ के कृष्णा उद्योग से 1000 मीट्रिक टन अवैध सफेद पत्थर जब्त, कंपनी मालिक पर FIR

ram janam hospital
Catalyst IAS

Related Articles

Back to top button