न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हड़ताली पारा शिक्षकों ने किया भिक्षाटन, मुख्यमंत्री राहत कोष में देंगे दान

496

Chatra: समान वेतनमान तथा स्थायीकरण की मांग को लेकर जिला मुख्यालय समेत विभिन्न प्रखंड मुख्यालयों में पारा शिक्षकों ने काला झंडा के साथ मोटरसाइकिल जुलूस निकाला. मोटरसाइकिल जुलूस में पारा शिक्षक सरकार विरोधी नारा लगाते हुए जगह-जगह चौक-चौराहों पर रुक कर पारा शिक्षकों ने अपनी मांगों के समर्थन में जमकर नारेबाजी की. पारा शिक्षकों ने झारखंड सरकार की नीतियों को भी खूब कोसा.

पारा शिक्षकों ने कहा कि राज्य सरकार तथा मुख्यमंत्री रघुवर दास के अड़ियल रवैया के कारण पूरे झारखंड में प्राथमिक शिक्षा चरमरा गयी है. सरकार को पारा शिक्षकों की हड़ताल की तनिक भी चिंता नहीं है. जो यह दर्शाता है कि शिक्षा के प्रति राज्य सरकार का रवैया पूरी तरह उदासीन है. पारा शिक्षकों ने इस दौरान जगह-जगह भिक्षाटन भी किया. मौके पर पारा शिक्षकों ने कहा कि सरकार हमारी मांगों के प्रति गंभीर नहीं है. ऐसे में सरकार को अब हम आर्थिक मदद देंगे. पारा शिक्षकों ने कहा कि भी छात्र में एकत्रित राशि मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करायी जाएगी ताकि सरकार को शर्म आये.

राजद ने मांगा सीएम का इस्तीफा

इधर पारा शिक्षकों के आंदोलन को राजद का भी भरपूर समर्थन मिल रहा है. मामले में विपक्षी पार्टी सरकार पर हमलावर दिख रही है. राजद नेता श्याम सिंह ने पारा शिक्षकों के आंदोलन को सही करार देते हुए कहा है कि जिस प्रदेश के शिक्षक पेट के लिए भिक्षाटन करने को विवश है. राजद नेता ने कहा कि सरकार अविलंब पारा शिक्षकों की मांगों पर विचार करें या फिर नैतिकता के आधार पर मुख्यमंत्री अपने पद से इस्तीफा दे दें. उन्होंने कहा कि जब मुख्यमंत्री को आम लोगों के समस्याओं से कोई सरोकार नहीं है तो ऐसे में उन्हें नैतिकता के आधार पर 15 पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है.

पारा शिक्षकों ने विधायक को दिखाया काला झंडा

इधर शहीद नीलांबर-पीताम्बर जयंती समारोह में शिरकत करने चतरा पहुंचे विधायक जयप्रकाश भोक्ता की जमकर फजीहत हुई. विभिन्न मांगों के समर्थन में लंबे समय से आंदोलित पारा शिक्षकों ने विधायक को घेरकर काले झंडे दिखाये. इस दौरान आक्रोशित पारा शिक्षकों ने विधायक के सामने ही जमकर सरकार विरोधी नारे लगाये. मौके पर पारा शिक्षकों ने कहा की विकास विरोधी सरकार को आगामी चुनाव में पारा शिक्षकों को दरकिनार करना महंगा पड़ेगा.

पारा शिक्षकों ने विधायक जयप्रकाश सिंह भोक्ता को मुख्यमंत्री को मामले से अवगत कराते हुए पारा शिक्षकों की मांगों पर विचार करने की नसीहत देने की बात कही. मौके पर विधायक ने कहा कि लोकतंत्र में अभिव्यक्ति की आजादी सभी का मौलिक अधिकार है. उन्होंने कहा कि पारा शिक्षकों की मांगे जायज है. सरकार इनकी मांगों पर गंभीरता पूर्वक विचार कर रही है. जल्द ही विधायकों का एक प्रतिनिधिमंडल भी मुख्यमंत्री से मिलकर मामले पर त्वरित उचित निर्णय लेने की मांग करेगा. उन्होंने कहा कि सरकार जनकल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन के साथ साथ आम जनमानस की भावनाओं का ध्यान रख रही है. पारा शिक्षकों को भी उनका नियम संगत अधिकार मिलेगा.

इसे भी पढ़ें: गढ़वा: दहशत फैलाने की कोशिश नाकाम, चार बम बरामद

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: