न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू संसदीय सीट पर क्या फिर से दोहराई जाएगी 2014 की कहानी ?

151

Dilip Kumar

Palamu : लोकसभा चुनाव की प्रक्रिया शुरू हो गयी है. 29 अप्रैल को पलामू में मतदान होगा. विभिन्न राजनीतिक दलों का वार रूम तैयार होने लगा है. ऐसे में यह चर्चा लाजिमी है कि क्या पलामू 2014 की कहानी दोहरा पायेगा?

2014 में 13 प्रत्याशियों ने भाग्य आजमाया था 

2014 के लोकसभा चुनाव में कुल 13 प्रत्याशियों ने पलामू से अपना भाग्य आजमाया था, जिसमें भाजपा विष्णु दयाल राम बाजी मारने में कामयाब हुए थे. उन्होंने राजद के मनोज कुमार को 2,64,242 वोटों के बड़े अंतर से पराजित किया था. वीडी राम को कुल 4,76,513 वोट मिले थे. जबकि मनोज कुमार को 212271 वोट प्राप्त हुए थे.

इसे भी पढ़ें – कांग्रेस ने 20 उम्मीदवारों की घोषणा की, पवन बंसल व परणीत कौर के नाम भी शामिल

सीटिंग सांसद की हुई थी बुरी हार 

इसके अलावा झाविमो के घुरन राम को 1,56,832 वोट आये थे. चौथे स्थान पर पूर्व नक्सली और तृणमूल कांग्रेस के कामेश्वर बैठा थे, जिन्हें 37,070 मत प्राप्त हुए थे. बैठा उस समय सीटिंग सांसद (झामुमो से) थे. 2014 के आम चुनाव में जदयू से जोरावर राम को 7538, बसपा के आरपी रंजन को 20481, माले की सुषमा मेहता को 8586, सपा के रामबदन राम को 4976, बमुपा के लालदेव राम को 4432, निर्दलीय रवीन्द्र कुमार रवि को 9145 और निर्दलीय अशोक राम को 5651 वोट मिले थे.

इस बार पलामू लोकसभा क्षेत्र से विजय कौन हासिल करेगा, यह तो 23 मई को ही पता चल पायेगा, लेकिन जो चुनावी बिसात बिछायी जा रही है, उसकी शक्ल-सूरत 2014 जैसी ही दिख रही है. 2014 के मुकाबले में 2019 में करीब-करीब चुनावी बैतरनी में उतरने वाले खिलाड़ी पुराने हैं. उनकी जीत होने पर पार्टी बदल जायेगी, लेकिन प्रत्याशियों के नाम नहीं बदलेंगे.

इसे भी पढ़ें – अनुराग गुप्ता के बाद कई IAS और IPS अधिकारी निर्वाचन आयोग के रडार पर, मांगी रिपोर्ट

2014 में हुआ था भाजपा-राजद में मुकाबला 

2014 में भी भाजपा और राजद के बीच द्विपक्षीय मुकाबला था और झाविमो तीसरा कोण बनाने में बहुत हद तक सफल रहा था. इस बार भी भाजपा का सीधा मुकाबला राजद से ही दिखाई दे रहा है. फर्क सिर्फ यह है कि राजद का चेहरा बदल गया है. 2014 में जहां मनोज कुमार राजद के प्रत्याशी थे तो इस बार घुरन राम पार्टी के प्रत्याशी होंगे.

कामेश्वर बैठा की जगह दुलाल भुइयां की होगी इंट्री 

बसपा ने राज्य के पूर्व मंत्री दुलाल भुइयां पर अगर दांव लगाया तो वे मुकाबले के एक कोण बन सकते हैं. हालांकि कोर्ट से सजा सुनाये जाने के कारण दुलाल भुइयां के चुनाव लड़ने पर संशय बरकरार है. हालांकि उन्होंने सीबीआई कोर्ट में चुनाव लड़ने की अर्जी दी है. लेकिन ऐसा दूर-दूर तक होता नहीं दिख रहा है. ऐसे में दुलाल भुइयां अपनी पत्नी अंजना भुइयां को चुनावी मैदान में उतारने की तैयारी में हैं. गौरतलब है कि अंजना भुइयां ने दो अप्रैल को नामांकन फार्म भी खरीदा है.

इसे भी पढ़ें – हेमंत सोरेन का स्थायी पता पूछनेवाली बीजेपी पर जेएमएम का पलटवार, कहा ‘खौफ में भाजपा नेता, कर रहे मूर्खतापूर्ण सवाल’

पलामू में कब कौन रहा सांसद

वर्ष                                                      सांसद

1957                                              गजेन्द्र प्र. सिन्हा

1962                                              शशांक मंजरी

1967                                              कमला कुमारी

1971                                              कमला कुमारी

1977                                              रामदेनी राम

1980                                             कमला कुमारी

1984                                             कमला कुमारी

1989                                             जोरावर राम

1991                                             रामदेव राम

1996                                            ब्रजमोहन राम

1998                                            ब्रजमोहन राम

1999                                            ब्रजमोहन राम

2004                                           मनोज कुमार

2009                                           कामेश्वर बैठा

2014                                           वीडी राम

इसे भी पढ़ें – झारखंड कांग्रेस : रांची से सुबोधकांत, सिंहभूम से गीता कोड़ा और लोहरदगा से सुखदेव भगत लड़ेंगे चुनाव

इसे भी पढ़ें – कांग्रेस जब-जब सत्ता में आती है, शासन उल्टी दिशा में चलने लगता है : मोदी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: