न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

गिरिडीह : घटिया वाहन आपूर्ति करने पर टाटा कंपनी के भुगतान पर रोक

मेयर व डिप्टी मेयर की शिकायत पर नगर विकास निदेशक ने की कार्रवाई

26

Giridih : नगर विकास विभाग के निदेशक अमित कुमार ने गिरिडीह नगर निगम को चार पहिया वाहन आपूर्ति करने वाली टाटा कंपनी के भुगतान पर फिलहाल रोक लगाने का निर्देश दिया है. शुक्रवार को गिरिडीह के निर्माणाधीन सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोजेक्ट स्थल के निरीक्षण के दौरान उन्होंने यह निर्देश दिया. निदेशक कुमार ने मेयर सुनील पासवान और डिप्टी मेयर प्रकाश सेठ से साफ तौर पर कहा कि नगर निगम को वाहनों की आपूर्ति करने वाली कंपनी के वाहन अगर चार-पांच महीनें में ही खराब होने लगे हैं तो फिर खराब वाहनों का भुगतान नगर निगम क्यों करें. निदेशक ने कहा कि विभाग किसी निजी कंपनी की गड़बड़ी को बदार्शत नहीं करने वाला है.

इसे भी पढ़ें- जांच रिपोर्टः हाइकोर्ट भवन निर्माण के टेंडर में ही हुई घोर अनियमितता, क्या तत्कालीन सचिव राजबाला…

निदेशक ने ली सिटी मैनेजर की क्लास

मौके पर निदेशक ने सिटी प्रबंधक प्रशांत भरतिया से पूछा कि कंपनी ने किन नियमों के तहत वाहन सप्लाय किया है और क्या कंपनी को भुगतान कर दिया गया है. इस पर सिटी प्रबंधक भरतिया ने बताया कि टाटा कंपनी की ओर से पांच महीनों में वाहनों की आपूर्ति की गई है, लेकिन पांच महीनों में ही कुछ वाहन खराब हो गए. किसी वाहन का भुगतान अभी तक नहीं किया गया है. आपूर्ति करने के दौरान कंपनी ने खराब होने पर ठीक कर देने की बात कही थी. सिटी मैनेजर की बात पर उखड़ते हुए निदेशक ने कहा कि ठीक करने का कोई सवाल नहीं उठता है, खराब वाहनों को कंपनी हर हाल में रिपलैस करे.

इसे भी पढ़ें- रांची लोकसभा क्षेत्र का एक टोला, जहां सड़क नहीं, पेयजल नहीं, चुआं और झरने से प्यास बुझाते हैं…

palamu_12

सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट का किया निरीक्षण

इससे पहले निदेशक अमित कुमार, मेयर सुनील पासवान और डिप्टी मेयर प्रकाश सेठ ने शहर के ऑफिसर्स कॉलोनी में नगर विकास विभाग द्वारा करोडों की लागत से निर्माणाधीन सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट प्लांट का निरीक्षण किया. पत्रकारों से बातचीत में निदेशक कुमार ने कहा कि सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट का निर्माण कार्य 15 नवंबर तक पूरा कर लिया जाना है. राज्य स्तर पर यह पहला प्रोसेसिंग प्लांट है, जिसे काफी अत्याधुनिक तरीके से बनाया जा रहा है.

प्लांट में हर घर से निकलने वाले कूड़े के ढेर को उपयोगी लायक बनाया जाएगा. पूछे जाने पर निदेशक ने बताया कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत हर घर को दो डस्टबीन दिए जाने हैं. पूरे नगर निगम क्षेत्र में अब तक 2  हजार डस्टबीन ही बंट पाएं हैं. जबकि 24 हजार घरों में डस्टबीन का वितरण किया जाना है. कहा कि सूखा कूड़ा के लिए अलग और गीला कूडा के लिए अलग डस्टबीन दिया जाना है. इसके लिए डोर टू डोर कूड़ा संग्रहण का कार्य हो रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: