न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कोयला उठाव में माफियागिरी बंद करें, बोहदा के विस्थापितों का पहले करें पुनर्वास : मुख्यमंत्री

सीसीएल समेत सभी कोल कंपनियों को संशोधन कर स्थानीय लोगों को प्राथमिकता देने का सीएम ने निर्देश दिया. इससे माफिया पर लगाम लगेगी. स्थानीय प्रशासन की देखरेख में यह कंपनी या को-ऑपरेटिव का गठन किया जायेगा.

435

Ranchi : मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि कोयला उठाव में माफियागिरी बंद करें. स्थानीय लोगों को काम दें. इसके लिए को-ऑपरेटिव या कंपनी बनाकर काम दिया जायेगा. सीसीएल समेत सभी कोल कंपनियों को संशोधन कर स्थानीय लोगों को प्राथमिकता देने का भी निर्देश दिया. इससे माफिया पर लगाम लगेगी. स्थानीय प्रशासन की देखरेख में यह कंपनी या को-ऑपरेटिव का गठन किया जायेगा. सीएम सोमवार को प्रोजेक्ट भवन में कोयला परियोजनाओं की समीक्षा कर रहे थे.

इसे भी पढ़ें – दर्जनभर आईएफएस पर 50 करोड़ से ज्यादा गबन का आरोप, फिर भी हैं महत्वपूर्ण पदों पर काबिज

माइंस क्षेत्रों में सर्वे कराकर बनायें सड़क

मुख्यमंत्री ने पथ विभाग और कोल कंपनियों को निर्देश दिया कि माइंस क्षेत्रों में बाइपास बनाने के लिए सर्वे कराकर सड़क बनायें, ताकि कोयले के ट्रक गांव या आबादी के बीच से आना-जाना ना करें. ये सड़क सबसे अच्छी गुणवत्ता वाली हों. विस्थापितों का पुनर्वास करना प्राथमिकता होनी चाहिए.

इसे भी पढ़ें –  ‘झारखंड की मुख्यधारा से कटे अधिकांश झारखंडी’

hotlips top

गोड्डा के इसीएल की खदानों के बोहदा गांव के विस्थापितों का पहले पुनर्वास करें. उन्हें बेहतर से बेहतर सेवाएं मुहैया करायें. सितंबर तक उनके घरों तक पाइपलाइन के माध्यम से पेयजल पहुंचायें. उनके गांव में स्ट्रीट लाइट, बेहतर सड़क, हर घर को गैस कनेक्शन आदि देने के काम में तेजी लायें. इससे गांव वालों के जीवन में बदलाव आयेगा, उनका विश्वास बढ़ेगा. इसके अलावा काम करने में भी आसानी होगी.

इसे भी पढ़ें – खत्म होगी सिपाही से सीधे दारोगा बनाने वाली सीमित परीक्षा व्यवस्था, सरकार ने मांगा प्रस्ताव

30 may to 1 june

किसी भी विस्थापित के साथ नहीं हो विश्वासघात

सीएम ने कहा कि झारखंड में अबतक यही होता आया है कि विस्थापितों की जमीन तो ले ली जाती है. लेकिन उनसे किय़ा गया वायदा पूरा नहीं किया जाता है. उनके साथ विश्वासघात किया जाता है. लेकिन अब ऐसा नहीं चलेगा. हमारी सरकार ने पहले के कई विस्थापितों को बसाया है. उनकी जमीन देने के साथ-साथ उन्हें मालिकाना हक दें. बैठक में मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, गृह विभाग के प्रधान सचिव एसकेजी रहाटे, डीजीपी डीके पांडेय, पथ सचिव केके सोन, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव सुनील कुमार वर्णवाल, खान सचिव अबु बकर सिद्दीकी के अलावा लातेहार, हजारीबाग, चतरा के उपायुक्त, सीसीएल, सीएमडी गोपाल सिंह, इसीएल के सीएमडी सुनील कुमार झा समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें –  गड़बड़झालाः मुखिया-बिचौलियों का कमाल, फर्जी लाभुक का बनवा दिया पीएम आवास

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like