Lead NewsNational

असम-मिजोरम बॉर्डर पर पत्थरबाजी-फायरिंग, आपस में भिड़े दोनों राज्यों के CM, देखें VIDEO

गृह मंत्री अमित शाह ने दोनों सीएम को कहा, सीमा विवाद का निकालिए हल

New Delhi : असम -मिजोरम बॉर्डर (Assam Mizoram Border) पर सोमवार को हिंसा भड़क उठी. यहां पत्थरबाजी की खबर सामने आई जिसके बाद मिजोरम के CM जोरामथंगा (Cm Zoramthanga) ने अमित शाह से मदद मांगी. दरअसल खबर है कि बॉर्डर एरिया पर पत्थरबाजी के साथ-साथ फायरिंग भी की गई है. इसके साथ ही सरकारी गाड़ियों पर भी हमले कि गए हैं.

मिजोरम के मुख्यमंत्री जोरामथंगा ने घटना का वीडियो शेयर करते हुए गृहमंत्री अमित शाह से मदद की गुहार लगाई. असम और मिजोरम, दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने मामले को लेकर ट्विटर पर बात की. ट्वीट में गृह मंत्री अमित शाह को भी टैग किया गया.

वहीं सूत्रों की मानें तो केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने असम और मिजोरम के मुख्यमंत्रियों से बात की है और उनसे सीमा मुद्दे को हल करने को कहा है. वहीं बताया ये भी जा रहा है कि दोनों मुख्यमंत्रियों ने इस मुद्दे को सुलझाने और शांति बनाए रखने पर सहमति जताई है. दोनों राज्यों की पुलिस बल विवादित क्षेत्र से लौट रही है.

इसे भी पढ़ेंःतमाड़ में अधिवक्ता की गोली मार कर हत्या

advt

क्या कहा हेमंत बिस्व ने

वहीं असम के सीएम हिमंत बिस्व सरमा ने इस मामले पर अपनी बात रखते हुए कहा, ‘मैंने अभी-अभी मिजोरम के मुख्यमंत्री जोरमथंगा जी से बात की है. मैंने कहा है कि असम हमारे राज्य की सीमाओं के बीच यथास्थिति और शांति बनाए रखेगा. मैंने जरूरत पड़ने पर आइजोल जाने और इन मुद्दों पर चर्चा करने की इच्छा जताई है.’

इससे पहले एक और ट्वीट करते हुए सीएम हिमंत बिस्व सरमा ने कहा था कि, ‘कोलासिब (मिजोरम) के एसपी हमें अपने पद से हटने के लिए कह रहे हैं, तब तक उनके नागरिक न सुनेंगे और न ही हिंसा रोकेंगे. ऐसे में हम सरकार कैसे चला सकते हैं? आशा है गृह मंत्री अमित शाह जल्द से जल्द हस्तक्षेप करेंगे.’

इसे भी पढ़ेंःBIG NEWS : मीराबाई चानू को बनाया गया एडिशनल SP, जूडो खिलाड़ी सुशीला देवी बनीं SI

सीएम जोरामथंगा ने दिया जवाब

वहीं सीएम हिमंत बिस्व सरमा के इस ट्वीट का जवाब देते हुए सीएम जोरामथंगा ने कहा कि गृह मंत्री अमित शाह के साथ मुख्यमंत्रियों की सौहार्दपूर्ण बैठक के बाद आश्चर्यजनक रूप से असम पुलिस की 2 कंपनियों ने, नागरिकों पर लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले दागे. इस दौरान सीआरपीएफ कर्मियों और मिजोरम पुलिस को भी नहीं बख्शा गया.

इससे पहले जोरमथंगा ने ट्वीट करते हुए कहा था कि ‘निर्दोष दंपत्ति कछार के रास्ते मिजोरम वापस जा रहे थे, तभी गुंडों ने यहां तोड़फोड़ की. आप इन हिंसक कृत्यों को कैसे सही ठहराने जा रहे हैं?’ असम-मिजोरम बॉर्डर पर हिंसा की ये खबर ऐसे समय में सामने आई है जब 2 दिन पहले ही गृह मंत्री अमित शाह ने शिलांग में पूर्वोत्तर राज्यों के सभी मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की थी.

इसे भी पढ़ेंःबड़ी लापरवाही: बातों में मशगूल नर्सों ने महिला की दोनों बाजुओं पर लगाई वैक्सीन, बिगड़ी हालत

क्या है पूरा मामला

मिजोरम के तीन जिले आईजोल, कोलासिब और मामित असम के कछार और हैलाकांडी जिलों से अंतर-राज्यीय सीमा शेयर करते हैं. यह क्षेत्र विवादित माना जाता है जहां से समय-समय पर झड़पों की खबर सामने आती रहती है. हालांकि ये तनाव पिछले कुछ दिनों से बढ़ता नजर आ रहा है. वजह है असम पुलिस का अभियान जो उपद्रवियों की तरफ से कथित रूप से अतिक्रमण की गई भूमि को खाली कराने के लिए चलाया जा रहा है.

संदिग्ध बदमाशों ने फेंका था आईईडी

10 जुलाई को सीमा का दौरा करने वाले असम सरकार के एक दल पर संदिग्ध बदमाशों द्वारा एक आईईडी फेंका गया था, जबकि 11 जुलाई तड़के सीमा पार से एक के बाद एक दो विस्फोटों की आवाज सुनी गई थी. इस मुद्दे पर कुछ दिन पहले नयी दिल्ली में मुख्य सचिवों और डीजीपी समेत दोनों राज्यों के अधिकारियों के बीच एक उच्च स्तरीय बैठक भी हुई थी.

इसे भी पढ़ें :राम की कसम खाकर मंत्री रामेश्वर उरांव बतायें झारखंड में ऑक्सीजन की कमी से मरे लोगों का आंकड़ा : दीपक प्रकाश

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: