BusinessLead News

शेयर बाजार हुआ धड़ाम, सेंसेक्स 2100 अंक गिरा, निवेशकों के 5 लाख करोड़ रुपये डूबे

Mumbai : अमेरिका में 10 ईयर बॉन्ड यील्ड (US 10 year bond yields) में भारी तेजी से वॉल स्ट्रीट धड़ाम हो गया. इसका असर आज भारत सहित दुनियाभर के कई शेयर बाजारों में भी देखा गया. विदेशी निवेशकों के पूंजी निकालने की आशंका से बीएसई सेंसेक्स (BSE Sensex) करीब 2100 अंक गिरकर 49000 से नीचे आ गया.

वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) निफ्टी (NSE Nifty) भी 14500 के स्तर पर पहुंच गया. इस गिरावट से निवेशकों को 5 लाख करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हुआ. ओएनजीसी, कोटक बैंक और बजाज फिनसर्व के शेयरों में 7 फीसदी तक की गिरावट रही. सेंसेक्स के सभी शेयरों में गिरावट रही.

Nirmal Bang Securities के सुनील जैन ने कहा कि बाजार पहले ही गुरुवार के स्तर से काफी गिर चुका है. उन्होंने कहा कि बाजार में नियर टर्म गिरावट का अनुमान नहीं लगाया जा सकता है. लेकिन हाल में इसमें काफी तेजी आई है इसलिए गिरावट भी ज्यादा हो सकती है. पिछली बार भी निफ्टी में 1000 अंक से अधिक की गिरावट आई थी. आज इसमें 500 अंक की गिरावट आई है. इस तरह की गिरावट आती रहेगी क्योंकि बाजार वैल्यूएशंस बहुत ज्यादा है.

इसे भी पढ़ें : रॉबर्ट वाड्रा ने भी डंका पीट कर किया राजनीति में आने का ऐलान, कांग्रेस का एक खेमा हैरान-परेशान 

बॉन्ड यील्ड और इक्विटी बाजार का कनेक्शन

बॉन्ड यील्ड और इक्विटी रिटर्न inversely proportional हैं. जब बॉन्ड यील्ड बढ़ता है तो इक्विटी मार्केट्स में गिरावट आती है. गुरुवार को अमेरिका में 10 साल की परिपक्ता अवधि वाले बॉन्ड्स पर यील्ड में 1.614 फीसदी की तेजी आई.

अमेरिका में महंगाई को लेकर चिंता से बॉन्ड यील्ड में तेजी आ रही है. बॉन्ड मार्केट उम्मीद कर रहा है कि महंगाई बढ़ने से फेडरल रिजर्व मासिक बॉन्ड खरीदारी में कमी करेगा या ब्याज दरें बढ़ाएगा. यह भारत जैसे उभरते बाजारों के लिए अच्छी खबर नहीं है. विदेशी पूंजी आने से भारत को काफी फायदा हुआ है.

Emkay Global ने एक नोट में कहा कि हाल के दिनों में विकसित बाजार में यील्ड बढ़ने से मार्केट्स में यह आशंका है कि यील्ड में और तेजी से इक्विटी बाजार के लिए समस्या पैदा हो सकती है.

ब्रोकरेज फर्म का कहना है कि आने वाले दिने में यूएस यील्ड में और तेजी आ सकती है. कोटक सिक्योरिटीज में इंस्टीट्यूशनल इक्विटीज के सीईओ और को-हेड प्रतीक गुप्ता ने कहा कि अगर यूएस बॉन्ड यील्ड इस साल के अंत तक 2.5 से 3 फीसदी ऊपर जाता है या भारत में 7 फीसदी या उससे ऊपर जाता है तो इससे शेयर बाजार में काफी उथलपुथल हो सकती है.

इसे भी पढ़ें : अमर बाउरी भी हिंदू नहीं हैं, हम उनका डीएनए जांचेंगेः इरफान अंसारी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: