JharkhandRanchiTOP SLIDER

झारखंड में स्टार्ट अप योजना की स्थिति ‘डाउन’

  • 4 साल में 419 उद्यमी रजिस्टर्ड, 22 को मिला फंड और 6 को ही विभाग ने उपलब्ध कराया बाजार

Ranchi: राज्य में स्टार्ट अप योजना की स्थिति दिनोंदिन खराब होती दिखायी दे रही है. आलम यह है कि योजना में युवाओं की रुचि भी कम हो रही है. कोरोना लॉकडाउन के बाद से स्टार्ट अप के लिए आये आवेदनों में भी कमी देखी गयी है.

Jharkhand Rai

आइटी विभाग के अंतर्गत चलने वाली स्टार्ट अप योजना को राज्य में अटल बिहारी इन्नोवेशन लैब स्टार्ट अप योजना चला रही है. अटल बिहारी इन्नोवेशन लैब की मानें तो अब तक 419 स्टार्टअप रजिस्टर्ड किये गये. इनमें से अब तक मात्र 95 स्टार्टअप को ही योजना के लिए चयनित किया गया. वहीं 22 स्टार्ट अप को उनके आइडिया के बाद फंड दिया गया. ये फंड पिछले साल सितंबर में दिये गये.

वहीं कुछ कुछ उद्यमी वर्तमान में ऐसे हैं जो इन्नोवेशन लैब में बैठते हैं. लैब में ये अपने आइडियाज पर रिसर्च करते हैं. इनमें से मात्र छह उद्यमियों को ही सरकार ने बाजार उपलब्ध कराया है. स्टार्ट अप योजना के तहत चयनित उद्यमियों को फंड से लेकर बाजार तक अटल बिहारी इन्नोवेशन लैब की ओर से उपलब्ध कराया जाता है.

इसे भी पढ़ें – JREDA के तीन पूर्व अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के आरोपों की ACB करेगा जांच, मुख्यमंत्री ने दी इजाजत

Samford

पिछले साल अगस्त के बाद नहीं हुई बैठक

स्टार्ट योजना के लिए आइटी विभाग और अटल इन्नोवेशन लैब की ओर से बैठक की जाती है जिसे स्टेट इवॉल्यूशन बोर्ड बैठक कहा जाता है. इसमें लैब को मिलने वाले आवेदनों और उद्यमियों की प्लानिंग पर चर्चा की जाती है. पिछले साल सितंबर से यह बैठक नहीं हुई है.

पिछले साल अगस्त में बोर्ड की आखिरी बैठक हुई थी जिसमें 39 युवा उद्यमियों की प्लानिंग की चर्चा की गयी. लेकिन इसके बाद से बैठक नहीं हुई. बता दें कि राज्य की स्टार्ट अप पॉलिसी के तहत हर तीन महीने में विभाग को बोर्ड बैठक आयोजित करनी है. इसके बावजूद योजना शुरू होने के बाद से कभी भी बोर्ड की बैठक निर्धारित समय में नहीं हुई. राज्य में स्टार्ट अप योजना साल 2016 से चल रही है.

इसे भी पढ़ें – महान क्रिकेटर कपिल देव को पड़ा दिल का दौरा, एंजियोप्लास्टी की गयी

आइडिया इन्नोवेशन के लिए नहीं मिलता स्टाइपेंड

पॉलिसी के तहत राज्य के चयनित उद्यमियों को आइडिया इन्नोवेशन के लिए आठ हजार से दस हजार तक स्टाइपेंड दिया जाता है. ये राशि लैब में बैठने वाले उद्यमियों को मिलनी थी लेकिन योजना घोषित होने के बाद से कभी भी यह राशि किसी को नहीं दी गयी.

अटल इन्नोवेशन लैब की पीआरओ रचना भारद्वाज ने बताया कि पिछले साल अगस्त से बोर्ड बैठक नहीं हुई है जिसके कारण नये उद्यमियों का चयन नहीं हो पा रहा. इस महीने मात्र चार उद्यमियों को रजिस्टर्ड किया गया है. बोर्ड बैठक की स्क्रीनिंग के बाद ही उद्यमियों का चयन किया जाता है.

इसे भी पढ़ें – दिउड़ी मंदिरः प्रशासन के एक्शन के खिलाफ गोलबंद हुए मुंडा पुरोहित, सीएम से हस्तक्षेप की गुहार

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: