न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बोकारो भवन निर्माण विभाग की स्थिति दयनीय, तीन अवर प्रमंडलों में मात्र एक सहायक अभियंता

तीन अवर प्रमंडल बोकारो, तेनुघाट और चास

353

Bokaro: मुख्यमंत्री रघुवर दास के अधीन आने वाले भवन निर्माण विभाग की स्थिति बोकरो जिले में बहुत ही दयनीय है. विभाग के अंर्तगत करोड़ो की योजनाएं चल रही है. लेकिन सहायक अभियंता की पर्याप्त संख्या नहीं होने के कारण योजनाओं की गुणवत्ता की सही जांच और समय-समय पर निरीक्षण करने वाला कोई नहीं है. बोकारो भवन प्रमंडल के अंर्तगत तीन अवर प्रमंडल बोकारो, तेनुघाट और चास आता है. सही मायने में तीन सहायक अभियंता की जरुरत है लेकिन यहां पर एक प्रतिनियुक्त सहायक अभियंता अमित कुमार के भरोसे पूरा विभाग का काम चल रहा है. जबकि उनकी पदस्थापना भवन अंचल हजारीबाग में प्राक्कलन पदाधिकारी-वन के सहायक अभियंता पर है. ऐसे में वह किसी भी योजना का निरीक्षण करने नहीं जाते है. सारा काम भवन प्रमंडल बोकारो कार्यालय में बैठकर कनीय अभियंता के भरोसे ही करते है. जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि योजनाओं का क्या हाल होगा.

इसे भी पढ़ें- सरकार के साथ IAS व IPS अफसरों का बना रहा गतिरोध, चहेतों की बेहतर पोस्टिंग के कारण कई अफसर कर चुके…

जिला योजना अनाबद्ध निधि से चल रही है आठ करोड़ की योजनाएं

जिला योजना अनाबद्ध निधि से बोकारो जिले में भवन प्रमंडल के अंतर्गत करीब आठ करोड़ की अधिकांश योजनाएं नक्सल प्रभावित नावाडीह, गोमिया, कसमार, पेटरवार के सुदूरवर्ती इलाकों में चल रही है. जहां पर समय-समय पर योजनाओं के निरीक्षण नहीं होने का लाभ सीधे संवेदक उठा रहें है. कई योजनाएं की भौतिक जानकारी तक इनके पास नहीं है. कई योजनाएं ऐसी भी है जो जमीन उपलब्धता नहीं होने के कारण फंसा हुआ  है, उसे भी जमीन पर उतारने का प्रयास नहीं किया जाता है. जिस कारण जो योजनाएं चल रही है, उनकी राशि का जैसे-तैसे उपयोग कर काम चल रहा है. जानकारों की माने तो सहायक अभियंता सिर्फ कार्यालय में बैठकर मापी पुस्तिका कनीय अभियंताओं से लेकर हस्ताक्षर करते है और बिल की निकासी में लगे रहते है.

इसे भी पढ़ें- राज्य में शिक्षा का हालः कॉलेजों में 5 लाख छात्र, चाहिए 12,500 शिक्षक, हैं सिर्फ 2493

झुमरा पहाड़ पर 11 लाख की योजनाएं पड़ी है अपूर्ण

झुमरा पहाड़ को नक्सल मुक्त कर वहां तेजी से सरकारी योजनाओं को जमीन पर उतारने की मुहिम राज्य सरकार चला रही है. भवन निर्माण विभाग की ओर से सिमराबेडा स्कूल, अमन स्कूल बलथरवा स्कूल, पुरनापानी स्कूल का काम अभी तक अपूर्ण पड़ा हुआ है. अमन स्कूल का काम अभी तक 20 फीसदी ही हो पाया है. जबकि पुरना पानी स्कूल का काम 30 फीसदी ही पुरा हुआ है. वहीं अन्य दो योजनाओं को 50 फीसदी पूरा किया गया है. इन चारों योजनाओं को 4 सितंबर 2018 तक पूर्ण होने का दावा भी भवन प्रमंडल के प्रगति प्रतिवेदन में किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें- क्या सरकार नहीं चाहती कि बने और धोनी? चार साल बीतने को है, फिर भी नहीं बन सकी खेल नीति

काम का समय पर पूरा करना लक्ष्य : कार्यपालक अभियंता

बोकारो भवन प्रमंडल के कार्यपालक अभियंता सुभाष चंद्रा ने बताया कि जो भी काम विभाग की ओर से चल रहा है, उसे समय पर पूरा किया जाएगा. जहां तक सहायक अभियंता की बात है, उन्हें निरीक्षण के लिए साईड भेजा जाएगा. समस्या यह है कि यहां पर एक ही सहायक अभियंता है जिस कारण दिक्कत हो रही है. तीन अवर प्रमंडल में चले रहें कामों का उनके द्वारा ही निरीक्षण किया जाता है.

इसे भी पढ़ें- जानिए, छात्रों की आखिर कौन सी मांग पर नाराज हुए लोहरदगा डीसी

सहायक अभियंता की काफी शिकायत मिली है: माधवलाल सिंह

भाजपा नेता व पूर्व मंत्री माधवलाल सिंह ने कहा कि भवन प्रमंडल में प्रतिनियुक्त सहायक अभियंता अमित कुमार के बारे में काफी शिकायतें मिल रही है. तेनुघाट अवर प्रमंडल कार्यालय कभी नहीं आते है. यहां का कार्यालय सिर्फ चतुर्थ वर्गीय कर्मचारियों के भरोसे चलता है. जबकि यहां का सारा काम वो बोकारो में ही करते है. वहीं तेनुघाट अवर प्रमंडल  के प्रखंडों में भवन निर्माण विभाग की कई योजनाएं चल रही है. जिसकी नियमित जांच भी नहीं होती है. खास कर झुमरा पहाड़ इलाके में वे भ्रमण के लिए नहीं जाते है. इनकी कार्य प्रणाली को लेकर अभियंता प्रमुख से बात की जायेगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: