BiharTODAY'S NW TOP NEWS

तेजस्वी का ट्वीट, बालिका गृह चलाने वाला बृजेश ठाकुर सरकार का करीबी व दो अखबारों का मालिक

Patna : बिहार के मुजफ्फरपुर जिला स्थित एक बालिका आश्रय गृह में यौन शोषण से इंकार करने पर एक लड़की की हत्या किये जाने का मामला गहराता जा रहा है. इसे लेकर राजनीति पार्टियां भी अब तंज कसती नजर आ रही है. वहीं इस मामले में तेजस्वी ने भी एक ट्वीट किया है. तेजस्वी ने ट्वीट किया है और बालिका आश्रय गृह के संचालक पर आरोप लगाए हैं. तेजस्वी ने आरोपित एनजीओ मालिक के बिहार सरकार के रहनुमाओं साथ मधुर संबंध होने की बात कही है. साथ ही उन्होंने कहा है कि संचालक बृजेश ठाकुर दो अखबार चलाता है. मुख्यमंत्री के अधीन पीआरडी विभाग ने उसे प्रेस समिति का सदस्य बनाया हुआ है. उसके अखबार के कम सर्कुलेशन के बावजूद उसे करोड़ों के विज्ञापन मिलते हैं. वह एक बड़े मीडिया समूह के उच्च अधिकारी का रिश्तेदार है.

इसे भी पढ़ें- बालिका गृह यौन शोषण मामला : खुदाई में नहीं मिला कोई शव


इस मीडिया समूह के उच्च अधिकारी के साथ है संचालक के संबंध

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बालिका आश्रय गृह के संचालक बृजेश ठाकुर के द्वारा प्रतिकमल नाम का एक अखबार चलाया जाता है. तेजस्वी ने जिस बड़े मीडिया समूह के उच्च अधिकारी का रिश्तेदार होने के बारे में जिक्र किया है वह स्टार टीवी के सीइओ उदर शंकर हैं. ज्ञात हो कि संचालक बृजेश ठाकुर एक हिंदी, उर्दू व अंग्रेजी अखबार चलाते हैं.

इसे भी पढ़ें- नगर तो निजी आवासीय कॉलोनी है, सरकार हरमू हाउसिंग कॉलोनी के BJP ऑफिस को भी करायेगी खाली ?

एनजीओ संचालक गिरफ्तार

इस मामले में अब तक नौ लोगों को गिरफ्तार किया है, जिसमें एनजीओ का संचालक बृजेश ठाकुर भी शामिल है. इन पर पोक्सो अधिनियम और भारतीय दंड संहिता की संबद्ध धारा ओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. वहीं पुलिस फरार चल रहे लोगों की तलाश कर रही हैं. इस मामले की जांच के लिए एसआईटी का भी गठन किया गया है , जिसमें महिला पुलिसकर्मी शामिल हैं. इस टीम का नेतृत्व उप अधीक्षक रैंक के अधिकारी कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःअशोक नगर में जब खुल रहे थे सरकारी कार्यालय और राष्ट्रीय बैंक, तब क्यों सोया रहा विभाग

गिरफ्तार नौ लोगों में सात महिलाएं

उल्लेखनीय है कि गिरफ्तार किए गए नौ लोगों में से सात महिलाएं हैं जो ‘ बालिका गृह ’ की कर्मचारी है. राज्य सरकार द्वारा वित्त पोषित इस आश्रय स्थल में करीब 50 लड़कियां रह रही थीं. समाज कल्याण निदेशालय के निर्देश के मुताबिक यहां रह रही सभी लड़कियों को मधुबनी और पटना स्थानांतरित कर दिया गया है. वहीं जिला बाल सुरक्षा इकाई ने इमारत को अपने नियंत्रण में ले लिया है.

इसे भी पढ़ें- घोटालेबाजों को संरक्षण देने के आरोपी आईएएस को विभाग का सर्वेसर्वा बनाने की तैयारी!

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं. 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button