न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आधारभूत संरचना विकसित करने के लिए राज्य के 110 प्रखंड बैकवर्ड घोषित

स्वास्थ्य, चिकित्सा और स्कूल-कॉलेज खोलनेवालों को मिलेगी तरजीह

71

– एनजीओ, धार्मिक संगठनों और चैरिटेबल संस्थानों को इन प्रखंडों में दी जायेगी जमीन
– 15 जिलों के 110 प्रखंड पिछड़ा घोषित, सरकार ने जारी की सूची

Deepak

Ranchi: झारखंड सरकार ने राज्य के सूदुरवर्ती इलाकों के बैकवर्ड (पिछड़े) प्रखंडों में मूलभुत सुविधाओं का विकास करने का फैसला लिया है. इसके तहत 110 प्रखंडों को बैकवर्ड घोषित किया है. जो रांची, खूंटी, सिमडेगा, लातेहार, गुमला, गोड्डा, गढ़वा, लोहरदगा, पूर्वी और पश्चिमी सिंहभूम, सरायकेला-खरसावां, जामताड़ा, दुमका, साहेबगंज और पाकुड़ जिले में अवस्थित हैं.

राजस्व, निबंधन और भू-सुधार विभाग ने इन प्रखंडों में गैर मुनाफे वाली स्वंयसेवी संस्थानों, चैरिटेबल संस्था और धार्मिक संस्थानों को रियायती दर पर जमीन भी देने का निर्णय लिया है. सरकार का मानना है कि इन जिलों में आनेवाले दिनों में नगरों के विस्तार की काफी संभावना है. इसलिए इनसे सटे प्रखंडों में शिक्षा और स्वास्थ्य की बुनियादी सुविधाओं का विस्तार जरूरी है.

सरकार की तरफ से तैयार की गयी सूची में पूर्व से घोषित पांचवीं अनुसूची वाले 134 प्रखंडों, अंचल और अधिसूचित नगर निकायों के प्रखंडों को बैकवर्ड ब्लॉक की सूची से अलग रखा गया है. अक्तूबर माह में सरकार ने नन प्रोफिट चैरिटेबल, स्पीरीचुअल संस्थानों को शैक्षणिक और स्वास्थ्य से जु़ड़े कार्यों के लिए जमीन उपलब्ध कराने का फैसला लिया था. इसके बाद ही बैकवर्ड प्रखंडों की सूची तैयार की गयी है.

कहां-कहां हैं बैकवर्ड ब्लॉक

जिला                                     प्रखंड

रांची-  बेड़ो, लापुंग, अनगड़ा, बुढ़मू, चान्हो, मांडर, तमाड़, सोनाहातू, इटकी और राहे
खूंटी-  तोरपा, रनिया, मुरहू, अड़की और कर्रा
सिमडेगा- कोलेबिरा, बानो, जलडेगा, ठेठईटांगर, बोलबा, कुरडेग, पाकरटांड़, केरसई, बांसजोर
लातेहार- गारु, महुआडांड, बरवाडीह, मनिका, बालूमाथ, चंदवा, बरियातू, हेरहंज
गोड्डा- सुंदरपहाड़ी, बोआरीजोर
गढ़वा- भंडरिया
गुमला- भरनो, सिसई, घाघरा, चैनपुर, डुमरी, विशुनपुर, रायडीह, पालकोट, बसिया, कामडारा, अलबर्ट एक्का
लोहरदगा- भंडरा, सेन्हा, किस्को, कुड़ू, कैरो, पेशरार
पूर्वी सिंहभूम- घाटशिला, धालभूमगढ़, मुसाबनी, डुमरिया, पटमदा, पोटका, बहरागोड़ा, चाकुलिया, बोड़ाम, गुड़ाबंधा
पश्चिमी सिंहभूम- मनोहरपुर, मंझगांव, कुमारडुंगी, बंदगांव, मंझारी, खूंटपानी, तांतनगर, नोवामुंडी, जगन्नाथपुर, गोइलकेरा, सोनुवा, झिंकपानी, टोंटो, गम्हरिया, आनंदपुर, गुदड़ी
सरायकेला-खरसावां- खरसांवां, कुचाई, चांडिल, ईचागढ़, नीमडीह, राजनगर, कुकडू
जामताड़ा- नारायणपुर, नाला, कुंडहित, करमाटांड़, फतेहपुर
दुमका- जामा, शिकारीपाड़ा, रानेश्वर, रामगढ़, जरमुंडी, मसलिया, सरैयाहाट, काठीकुंड, गोपीकांदर
साहेबगंज- बरहेट, पटना, बोरियो, तालझरी, उधवा, भंडरो
पाकुड़- पाकुड़िया, महेशपुर, हिरणपुर, लिट्टीपाड़ा और आमड़ापाड़ा

इसे भी पढ़ेंः नेपाल में नये भारतीय करेंसी पर प्रतिबंध, 100 रुपये तक का नोट ही होगा वैध

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: