JharkhandLead NewsRanchi

कामचलाऊ व्यवस्था से संचालित हो रहे राज्य के विश्वविद्यालय, चार में वीसी और दो में प्रोवीसी नहीं

Ranchi : झारखंड में उच्च शिक्षा कामचलाऊ व्यवस्था से संचालित हो रही है. राज्यपाल सह कुलाधिपति की ओर से चिंता जाहिर करने के बाद भी सुधार कैसे हो इसपर प्रयास नहीं हो रहा है. ढुलमुल रवैया को इस बार से समझा जा सकता है कि चार माह बीतने को है लेकिन राज्य से सरकारी विश्वविद्यालयों में वीसी और प्रोवीसी के पद रिक्त हैं. आवेदन कि प्रक्रिया शुरू होने के बाद भी नियुक्ति कब होगी इसका जवाब किसी के पास नहीं है.

Advt

इसे भी  पढ़ें- पलामू: भाषा विवाद पर पूर्व मंत्री के.एन त्रिपाठी ने अपने ही सरकार को घेरा, कहा- फैसला वापस ले सरकार

इन विवि में होनी हैं नियुक्तियां

राज्य के जिन विवि में कुलपतियों की नियुक्ति होनी है. उनमें चार विवि में वीसी के पद रिक्त हैं. यहां प्रभारी वीसी विश्वविद्यालय संचालित कर रहे हैं. इसके अलावा दो विवि में प्रोवीसी के पद रिक्त हैं. रांची विश्वविद्यालय, विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विवि, डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी विवि और जमशेदपुर वीमेंस यूनिवर्सिटी में वीसी की नियुक्ति होनी है. दो विश्वविद्यालयों सिदो-कान्हू मुर्मू विश्वविद्यालय और विनोद बिहारी महतो कोयलांचल विश्वविद्यालय में प्रतिकुलपति के पद पर नियुक्ति होनी है. यहां वीसी और प्रोवीसी की नियुक्ति के लिए राजभवन द्वारा चार माह पहले आवेदन आमंत्रित किया गया था. लेकिन, अभी तक नियुक्ति नहीं हो सकी है.

प्रभारी कुलपति से चल रहा काम

राज्य के चार विवि में वीसी के पद रिक्त हैं. यहां प्रभारी कुलपति रुटीन कार्य देख रहे हैं. प्रभारी वीसी को झारखंड विश्वविद्यालय अधिनियम में निहित शक्तियां प्राप्त नहीं है. नीतिगत निर्णय नहीं लेने पर राजभवन द्वारा रोक लगी है. बहुत जरूरी होने की स्थिति में राजभवन से अनुमति लेकर कार्य संपादित किए जा रहे हैं. कुलपति पद के लिए आवेदन देने वाले अभ्यर्थी सेवानिवृत्त हो रहे हैं. वीसी-प्रोवीसी के लिए आए आवेदनों की स्क्रूटनी हो चुकी है. नियमानुसार नियुक्ति के लिए राज्यपाल द्वारा सर्च कमेटी का गठन किया जाता है. सर्च कमेटी द्वारा पैनल तैयार किया जाता है. एक पद के लिए तीन-तीन अभ्यर्थियों का पैनल में नाम रहता है. इन्हीं पैनल में एक का चयन किया जाना है.

इसे भी  पढ़ें- विधायक ने किया गोलमुरी में डॉ. राजेंद्र प्रसाद की मूर्ति का अनावरण

Advt

Related Articles

Back to top button