JharkhandLead NewsRanchi

प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने रामेश्वर उरांव पर साधा निशाना, कहा- बताएं यूपीए शासन काल में झारखंड का कितना बकाया

Ranchi : भाजपा प्रदेश अध्यक्ष व सांसद दीपक प्रकाश ने राज्य के वित्तमंत्री रामेश्वर उरांव के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया दी. जिसमें रामेश्वर उरांव ने केंद्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण को पत्र लिखकर बकाये की मांग की है. दीपक प्रकाश ने कहा कि कांग्रेस पार्टी लगातार जनता को दिग्भ्रमित करती रहती है. रामेश्वर उरांव को बताना चाहिये कि कांग्रेस नेतृत्व वाली यूपीए शासन में झारखंड का कितना बकाया है. आज तो मोदी सरकार राज्य को मुक्त हस्त से सहायता राशि उपलब्ध करा रही है.

इसे भी पढ़ें:Jharkhand : विपक्ष के हंगामे के बीच 2926 करोड़ रुपये का दूसरा अनुपूरक बजट सदन में पेश

कोयला मंत्री रहते हुये शिबू सोरेन ने राज्य का कितना बकाया चुकायाः

Chanakya IAS
Catalyst IAS
SIP abacus

उन्होंने कहा कि शिबू सोरेन भारत सरकार के कोयला मंत्री रहे हैं. कांग्रेस पार्टी को चूप्पी तोड़नी चाहिये कि गुरुजी ने राज्य को कितना बकाया चुकाया. दीपक प्रकाश ने कहा कि राज्य सरकार के खजाने में पैसे पड़े हैं और सरकार फंड का रोना रोते रहती है.

The Royal’s
Sanjeevani
MDLM

इसे भी पढ़ें:Jharkhand : रोजगार और जेपीएससी मामले पर गरमाया रहा सदन, दर्जन भर विधायकों ने लाया कार्यस्थगन प्रस्ताव

राज्य वित्तीय कुप्रबंधन का शिकार हो गया हैः

उन्होंने कहा कि हेमंत सरकार में राज्य वित्तीय कुप्रबंधन का शिकार हो गया है. वित्त मंत्री पुलिसिया सोच से राज्य की अर्थव्यवस्था को चलाना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि खजाने में पैसे पड़े हैं. लेकिन, राज्य की जनता बुनियादी सुविधाओं से वंचित है. सड़कों की स्थिति जर्जर है. बिजली व्यवस्था चरमरा गई है. किसानों के बकाये नहीं मिल रहे हैं.

इसे भी पढ़ें:झारखंड के निजी विवि यूजीसी व सरकार के निर्धारित मापदंडों को पूरा नहीं करते, मनमाने तरीके से कोर्स शुरू कर डिग्री बांट रहे हैं : राज्यपाल

डिस्ट्रिक्ट मिनिरल फंड में 5 हजार करोड़ से ज्यादा रुपये पड़े हैं :

उन्होंने कहा कि डिस्ट्रिक्ट मिनिरल फंड में 5 हजार करोड़ से ज्यादा रुपये पड़े हैं. परंतु राज्य सरकार उसे खर्च कर जनता को सुविधा उपलब्ध नहीं कराना चाहती. उल्टे यह सरकार खून के भी पैसे वसूलने के लिये नियम बनाती है.

25 प्रतिशत राशि भी राज्य सरकार खर्च नहीं कर पायी हैः

उन्होंने कहा कि एक तरफ राज्य में अबतक बजट का 25 प्रतिशत राशि भी राज्य सरकार खर्च नहीं कर पायी है. जबकि वित्तीय वर्ष बीतने को है. दूसरी ओर अनुपूरक बजट लाकर राज्य सरकार मार्च लूट की तैयारी कर रही है.

उन्होंने कहा कि राज्य के वित्त मंत्री अपने गिरेबां में झांके और जनता को दिग्भ्रमित करने के बजाय अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें.

इसे भी पढ़ें:आयुष मिशन के लिए केंद्र सरकार ने झारखंड को दिये 15 करोड़, खर्च हुए सिर्फ 4.5 लाख

Related Articles

Back to top button