न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

राज्य स्वास्थ्य व्यवस्था की कड़वी हकीकतः कहीं 23 दवाओं के भरोसे आयुष्मान भारत, कहीं 10 करोड़ की दवाएं होंगी खाक

1,214

Ranchi: देश में स्वास्थ्य सेवाओं को एक नई दिशा देने के लिए सरकार ने आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत की. योजना के प्रचार-प्रसार से लगा कि अब राज्य के गरीब मरीजों को बीमारी के दौरान केवल दुआ पर निर्भर नहीं रहना पड़ेगा बल्कि दवाएं भी मिलेगी. पैसों के अभाव में इलाज से महरुम नहीं होना पड़ेगा. लेकिन राज्य के सबसे बड़े अस्पताल में जहां प्रतिदिन करीब 2500 मरीज सिर्फ एडमिट होकर इलाज कराते हैं, उसी अस्पताल रिम्स में महज 23 दवाएं ही उपलब्ध हैं. यानी रिम्स में आयुष्मान भारत के तहत इलाज कराने वाले मरीजों के लिए करीब 75 प्रतिशत से अधिक दवाएं नहीं मिल पाती हैं.

eidbanner

इसी स्वास्थ्य व्यवस्था की दूसरी कड़वी हकीकत ये है कि 10 करोड़ से भी अधिक की लागत के 50 टन से भी अधिक दवाएं जला दी जाने वाली है. इसको लेकर झारखंड ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन समिति, स्वास्थ्य चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग ने रिम्स निदेशक को पत्र लिखा है. और दस करोड़ से अधिक की करीब दस टन दवाओं को जलाने का आदेश दिया है.

दवाएं हो गयी एक्सपायर

जिन दवाओं को जलाने का आदेश है, वो सभी एक्सपायर हो चुकी हैं. इन दवाओं में आयरण की गोलियां, दस करोड़ से अधिक की हर्बल मेडिसीन हैं. नरवारी मंडूर ये आयुर्वेदिक दवाएं हैं, जिंक टैबलेट, क्लौरोपेट सिरप, क्लोरोपिट सिरप, डीडी किट, गॉड बैंडेज, डिस्पोजेबल सिरिंज,एलबेंडाजोल, पैरासिटामोल, और स्लाइन की बोतलों को डिस्पोज किया जाना है. फिलहाल ये दवाएं नामकुम के वेयर हाउस में पड़ी है.

दवा और इंप्लांट के लिए लंबा इंतजार

Related Posts

दर्द-ए-पारा शिक्षक: उधार बढ़ने लगा तो बेटों ने पढ़ाई छोड़कर शुरू की मजदूरी, खुद भी सब्जियां बेच निकाल रहे खर्च

इंटर तक पढ़ी हैं दो बेटियां, मानदेय नहीं मिलने के कारण आगे नहीं पढ़ा पा रहे

आयुष्मान भारत योजना से मरीजों को लाभ तो मिल रहा है. लेकिन मरीजों के डरने की भी खबर को न्यूज विंग प्रकाशित करता रहा है. पिछले 9 नवंबर को पुरन बेदिया के बेटे बिरसई बेदिया अपने बेटे का इलाज कराने रिम्स आए थे. सभी जांच रिपोर्ट हो जाने के बाद भी मरीजों को लंबा इंतजार करना पड़ा, डॉक्टरों का कहना था कि इम्प्लांट नहीं होने की वजह से इलाज में देरी हो रही है. उसके बाद पुरन बेदिया ने अपने बेटे का इलाज पैसा जमा कर ही कराने की सोचे.

पुरन बेदिया एक अकेला मामला नहीं है. रोजाना ऐसे मामले सामने आ जाते हैं. मरीज की जांच के बाद इंप्लांट के लिए टेंडर निकाला जाता है जिससे देरी हो जाती है और मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ता है. इंप्लांट तो दूर मरीजों को दवा भी खुद से ही जाकर लानी पड़ती है.

इसे भी पढ़ेंःन्यूज विंग की खबर, जिसे दो अखबारों ने सुर्खियां बनायीं, लेकिन क्रेडिट देने से किया परहेज

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: