Education & Career

डीजी एप से पढ़ाई कर रहे राज्य के सरकारी स्कूल के बच्चे, अब तक 7 लाख ने कराया रजिस्ट्रेशन

Ranchi : कोरोना जैसी वैश्विक महामारी सहित अन्य कारणों से राज्य के सरकारी स्कूल के बच्चे क्लासरूम पढ़ाई से वंचित हो रहे हैं. अब भी बहुत सीमित पढ़ाई ही क्लासरूम में हो रही है. राज्य के बच्चे पढ़ाई से वंचित न हों इसके लिए स्कूली शिक्षा और साक्षरता विभाग ने मोबाइल एप के माध्यम से पढ़ाई शुरू करायी.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के निर्देश पर स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने झारखंड डीजी स्कूल मोबाइल एप्लिकेशन की शुरुआत की. यह बच्चों की पढ़ाई में सहायक हो रहा है.

राज्य के 45 हजार स्कूलों में पहली से 12वीं कक्षा में पढ़ाई कर रहे करीब 75 लाख बच्चों को इस एप से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान की जा रही है. झारखंड डीजी स्कूल मोबाइल एप्लिकेशन में अबतक 7 लाख बच्चे निबंधन करा गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त कर रहे हैं.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ेंःCORONA UPDATE : 8 अप्रैल को पीएम मोदी करेंगे मुख्यमंत्रियों से बात, 24 घंटे में 1 लाख से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

कैसे लें डीजी एप का लाभ

झारखंड डीजी स्कूल एप का लाभ यू- डाइस में निबंधित सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त एवं निजी स्कूल में अध्ययनरत बच्चों को मिल रहा है. एप को डाउनलोड करने के लिए गूगल प्ले स्टोर में जाकर वहां से झारखंड डीजी स्कूल एप को इंस्टॉल करना होगा और कंटिन्यू बटन क्लिक करते ही, लॉग इन स्क्रीन पर खुद को बच्चे रजिस्टर कर सकेंगे.

इस प्रक्रिया में बच्चों को अपने जिला, प्रखंड, स्कूल, क्लास, अपना नाम और मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा. इसके उपरांत सिर्फ मोबाइल नंबर डाल कर ऐप पर लॉगिन किया जा सकता है. लॉगिन होते ही, कंटेंट ऑफ द डे, क्विज ऑफ द डे एवं ऑल कांटेक्ट दिखायी देगा.

विषयवार उपलब्ध है सामग्री

इस एप में पढ़ाई के लिए विषयवार सामग्री उपलब्ध है. बच्चे अपनी जरूरत के अनुरूप कंटेंट का चयन कर सकेंगे. एप की बायीं ओर तीन लाइन पर क्लिक करने से बच्चों का नाम एवं स्कूल दिखाई देगा.

बच्चे माई प्रोफ़ाइल पर क्लिक कर कक्षा एवं विद्यालय को परवर्तित कर सकते हैं. ऐप में भाषा चुनने की भी सुविधा मिलेगी. बच्चों को अध्ययन के लिए यू ट्यूब वीडियो भी उपलब्ध होगा. वीडियो देखने के क्रम में बच्चे अपनी प्रतिक्रिया भी दर्ज कर सकेंगे.

वह अपने सीखने के स्तर की जांच भी ऐप के माध्यम से कर सकेंगे. ऐप में बच्चों के लिए मैट्रिक और इंटरमीडिएट परीक्षा की तैयारी के लिए मॉडल प्रश्न पत्र उपलब्ध होंगे.

इसे भी पढ़ेंःकोवैक्सीन की दूसरी डोज लेनेवालों को करना होगा इंतजार, 7 अप्रैल को आयेगी अगली खेप

Related Articles

Back to top button