न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पेट्रोल, डीजल पर 28% GST के बाद राज्य अतिरिक्त टैक्स भी लेंगे : सुशील मोदी

माल एवं सेवाकर (जीएसटी) परिषद के प्रमुख सदस्य एवं बिहार के उप - मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि पेट्रोल और डीजल को जब जीएसटी में लाया जाएगा तो इनको टैक्स की 28% की सबसे ऊूंची दर के तहत रखा जाएगा.

1,959

Patna : माल एवं सेवाकर (जीएसटी) परिषद के प्रमुख सदस्य एवं बिहार के उप – मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि पेट्रोल और डीजल को जब जीएसटी में लाया जाएगा तो इनको टैक्स की 28% की सबसे ऊूंची दर के तहत रखा जाएगा. इसके साथ इन वस्तुओं पर राज्य भी कुछ टैक्स लगा सकेंगे और इस तरह इनकी खुदरा कीमतें मौजूदा स्तर के आस पास बनी रहेंगी. सुशील मोदी ने कहा कि इस मुद्दे पर राज्यों के साथ सहमति बनाने में अभी कुछ समय लगेगा और परिषद ही इस पर अंतिम फैसला समय पर लेगी.

इसे भी पढ़ें- कांग्रेस का भाजपा पर पलटवार, कहा- इससे बदतर स्थिति क्या होगी कि सीएम और डीजीपी को पता ही नहीं चला कितने जवान हुए थे अगवा

पेट्रोल और डीजल को फिलहाल जीएसटी में नहीं किया जाएगा शामिल

उन्होंने कहा कि पेट्रोलयिम पदार्थों को यदि 28 प्रतिशत की श्रेणी में रखा जाता है तो उसके ऊपर राज्य सरकारें भी कुछ कर लगा सकेंगी. पूरी दुनिया में यही व्यवस्था है. राज्यों के राजस्व का करीब 40 से 50 प्रतिशत हिस्सा पेट्रोलियम पदार्थों पर कर से ही मिलता है. इस प्रकार इससे इनके दाम पर ज्यादा असर नहीं होगा. मोदी ने कहा कि पेट्रोल और डीजल को अभी फिलहाल आने वाले कुछ महीनों में जीएसटी में शामिल नहीं किया जाएगा. अभी पूरी ध्यान नयी रिटर्न व्यवस्था पर है. जीएसटी की उच्च दर और वैट को जोड़ने के बाद पेट्रोल – डीजल की कीमत करीब उतनी ही रहेगी जो अभी केंद्र के उत्पाद शुल्क और राज्यों के वैट के बाद होती है. मौजूदा समय में केंद्र पेट्रोल पर कुल 19.48 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 15.33 रुपये प्रति लीटर उत्पाद शुल्क लेती है. राज्य सरकारें भी पेट्रोलियम उत्पादों पर मूल्य वर्द्धित कर (वैट) अलग से लगाती हैं.

इसे भी पढ़ें- सदियों पुरानी परंपरा पत्थलगड़ी पर तनाव और टकराव क्यों?

राजस्व प्राप्ति स्थिर होने की जरूरत

उद्योग जगत को धैर्य बनाये रखने की सलाह देते हुये मोदी ने यह भी कहा कि जीएसटी के तहत राजस्व वसूली स्थिर हो जाने पर जीएसटी परिषद इसकी सबसे ऊंची दर में शामिल वस्तुओं की सूची को छोटा करने पर विचार कर सकती है. परिषद की बैठक में यदि निर्णय लिया जाता है और सीमेंट , रंग – रोगन , टीवी , फ्रिज जैसे उत्पादों पर जीएसटी दर कम की जाती है तो घरेलू उपयोग के ये सामान सस्ते हो सकते हैं. जीएसटी परिषद की अगली बैठक 21 जुलाई को होने की उम्मीद है. उन्होंने कहा कि ऊंची दर में शामिल वस्तुओं की सूची को छोटा करने की आवश्यकता है. लेकिन इससे पहले राजस्व प्राप्ति स्थिर होने की जरूरत है. जीएसटी प्राप्ति हर महीने एक लाख करोड़ रूपये से अधिक होने पर परिषद सबसे ऊंची दर में शामिल वस्तुओं की सूची कम करने पर विचार कर सकती है. परिषद ने इससे पहले करीब 200 वस्तुओं पर जीएसटी दर को कम किया है, आने वाले समय में कुछ और वस्तुओं पर दर कम की जा सकती है.

इसे भी पढ़ें- घाटे में चल रही IDBI में 13 हजार करोड़ निवेश करेगी LIC

जीएसटी का दूसरा साल इसके सरलीकरण के नाम रहेगा

उद्योग जगत यह मांग कर रहा है कि जीएसटी की 28 प्रतिशत दर की श्रेणी में शामिल वस्तुओं की सूची को छोटा किया जाना चाहिये. उद्योगों का मानना है कि टेलीविजन , फ्रिज , रंग रोगन और सीमेंट जैसी वस्तुओं को सबसे ऊंची कर श्रेणी से हटाया जाना चाहिये. केवल सिगरेट , तंबाकू और विलासिता जैसी बहुत कम वस्तुओं को ही इस श्रेणी में रहने देना चाहिये. सुशील ने कहा कि जीएसटी परिषद इस अप्रत्यक्ष कर व्यवस्था को सरल बनाने को लेकर प्रतिबद्ध है. उन्होंने उद्योग जगत को धैर्य बनाये रखने की सलाह देते हुये कहा कि हम आपकी बताई दिशा में ही काम कर रहे हैं. जीएसटी का दूसरा साल इसके सरलीकरण के नाम रहेगा. लघु एवं छोटे उद्योगों के लिये सुविधायें बेहतर बनाई जायेंगी. उन्होंने कहा कि जीएसटी भरने के लिये नया रिटर्न फार्म आने वाले महीनों में जारी कर दिया जायेगा. इससे कारोबारियों को जीएसटी भरना सरल होगा. जीएसटी परिषद के एजेंडे में इसकी एक दर रखे जाने का भी विचार है , यह दर 14, 15 अथवा 16 हो सकती है लेकिन यह निर्णय कब होगा यह कहना मुश्किल है. आने वाले दिनों में इस पर विचार किया जायेगा. जीएसटी परिषद में केन्द्र और राज्य सभी के वित मंत्री शामिल हैं. जीएसटी पर निर्णय लेने वाली यह शीर्ष इकाई है.

इसे भी पढ़ें- जल संसाधन विभाग के 94 इंजीनियर्स पर हैं भ्रष्‍टाचार के आरोप, बिना दंडात्‍मक कार्रवाई के अब हो रहे हैं रिटायर

पेट्रोलियम पदार्थों को चरणबद्ध तरीके से जीएटी में लाना चाहिए

सुशील मोदी ने जीएसटी को आजादी के बाद का सबसे बड़ा टैक्स सुधार बताते हुये कहा कि यह राज्यों के सहयोग से ही संभव हो पाया है. उन्होंने कहा कि वह रिवर्स चार्ज प्रणाली (आरसीएम) के पक्ष में नहीं है. लेकिन इस बारे में समिति ही कोई निर्णय लेगी. पांच लोगों की समिति इस बारे में विचार करने के लिये बनाई गई है. इससे पहले पीएचडी उद्योग मंडल के अध्यक्ष अनिल खैतान और पीएचडी अप्रत्यक्ष कर समिति के चेयरमैन बिमल जैन ने अपनी बात रखी. उन्होंने कहा कि जीएसटी लागू होने की पिछले एक साल की यात्रा काफी उल्लेखनीय रही है. शुरूआती परेशानियों के बाद अनुपालन बेहतर हुआ है. माल की सुगम आवाजाही के लिये शुरू की गई ई – वे बिल प्रणाली भी काम करने लगी है. इसमें करीब 10 करोड़ ई – वे बिल अब तक जारी किये जा चुके हैं. बिमल जैन ने कहा कि जीएसटी प्रणाली में नकारात्मक वस्तुओं की सूची को और छोटा किया जाना चाहिये. इसमें कई ऐसी सेवायें शामिल हैं जिनपर उद्वोगों को क्रेडिट मिलना चाहिये. पेट्रोलियम पदार्थो को चरणबद्ध तरीके से जीएसटी में लाया जाना चाहिये. प्राकृतिक गैस को इसमें शामिल कर दिया जाना चाहिये. उसके बाद धीरे धीरे दूसरे पेट्रोलियम पदार्थों जैसे पेट्रोल , डीजल को इसके दायरे में लाया जाना चाहिये.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: