न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राज्य शिक्षा परियोजना ने बदले 1248 कर्मियों के पदनाम, सता रहा आउटसोर्सिंग का भय

विगत दिनों आयोजित राज्य कार्यरकारिणी की बैठक में इसका निर्णय लिया गया था.

1,719

Ranchi : राज्य शिक्षा परियोजना के अंतर्गत कार्यरत कर्मियों के पदनामों में बदलाव किया गया है. विगत दिनों आयोजित राज्य कार्यरकारिणी की बैठक में इसका निर्णय लिया गया था. इस बदलाव से कर्मचारियों के बीच आउटसोर्सिंग का भय हो गया है.

परियोजना के तहत कार्यरत 1248 कर्मियों के पदनामों को बदला गया है. इनमें 263 अकाउंटेंट्स हैं जिन्हें अब अकाउंटेंट्स सह कंप्यूटर ऑपरेटर कहा जायेगा. वहीं 206 ब्लाॅक प्रोग्राम ऑफिसर कार्यरत हैं जिनका पदनाम अब ब्लाॅक प्रोग्राम मैनेजर कर दिया गया है. ये कर्मी लगभग 20 सालों से राज्य में कार्यरत हैं.

सूत्रों से जानकारी मिली है कि प्रखंड स्तर पर डाटा इंट्री ऑपरेटर के 263 और एमआइएस काॅडिनेटरों के 264 पद स्वीकृत हैं. दोनों पदों को जोड़कर पदों की जानकारी कार्यकारिणी को दी गयी है. वहीं डीईपी पद पर कार्यरत कर्मियों के पदनामों को भी बदल दिया गया है.

इसे भी पढ़ें : शिक्षा विभाग में अधिकारियों का तबादला, मिथिलेश कुमार सिन्हा बने रांची के डीईओ

स्थायी नियुक्ति की गयी थी सरकार की ओर से

जिन पदों का नाम परियोजना की ओर से बदला जा रहा है उन पर कर्मचारियों की स्थायी नियुक्ति की गयी थी. नाम बदलने के निर्णय के बाद अकाउंटेंट्स ही कंप्यूटर ऑपरेटर का काम करेंगे.

यही नहीं, जिन ब्लाॅक स्तरीय डाटा ऑपरेटरों और एमआइएम काॅडिनेटरों के पद स्वीकृत हैं, उनके लिये अलग से बजट का प्रावधान है. लेकिन विभाग की ओर से इन दोनों पदों को एक ही बताया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें : 10 अगस्त को उपराष्ट्रपति रांची में कृषि आशीर्वाद योजना की करेंगे शुरुआत, 15 लाख किसानों के खाते में जायेगी राशि

छह माह पूर्व हो चुकी है आउटसोर्सिंग भर्ती

इस संबध में कुछ परियोजना कर्मियों से बात की गयी तो जानकारी हुई कि कर्मचारियों में पदनाम बदले जाने से काफी भय है. कर्मचारियों का कहना है कि सरकार इन कर्मचारियों को आउटसोर्सिंग करने की योजना बना रही है.

छह माह पूर्व बोस्टर कंसलटेंट ग्रुप और पिरामल फाउंडेशन के तहत शिक्षा परियोजना में आउटसोर्सिंग से कर्मचारियों को नियुक्त किया गया था.

राज्य परियोजना कर्मचारी संघ के अध्यक्ष राजीव शरण ने इस संबध में कहा कि दोनों कंपनियों की ओर से आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को सरकार परियोजना परिषद में समाहित करना चाह रही है. ऐसे में पूर्व से कार्यरत स्थानीय कर्मचारियों के समक्ष परेशानी उत्पन्न होगी.

इसे भी पढ़ें : JSCA में अक्टूबर 2017 के बाद हुआ सिर्फ एक इंटरनेशनल मैच, सुनाई देती रहीं शादी-पार्टियों की गूंज

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
झारखंड की बदहाली के जिम्मेदार कौन ? भाजपा, झामुमो या कांग्रेस ? अपने विचार लिखें —
झारखंड पांच साल से भाजपा की सरकार है. रघुवर दास मुख्यमंत्री हैं. वह हर रोज चुनावी सभा में लोगों से कह रहें हैं: झामुमो-कांग्रेस बताये, राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन कह रहें हैं: 19 साल में 16 साल भाजपा सत्ता में रही. फिर भी राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
लिखने के लिये क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: