JharkhandRanchi

किसान आंदोलन के पक्ष में प्रदेश कांग्रेस फिर करेगी आंदोलन, 13 को जिला मुख्यालयों में पदयात्रा

10 फरवरी को सभी प्रखंडों में अधिवेशन, 13 को पदयात्रा और 20 को हजारीबाग में राज्यव्यापी ट्रैक्टर रैली

Ranchi : मोदी सरकार के लाये तीन कृषि कानूनों को लेकर प्रदेश कांग्रेस पिछले एक माह से राज्य में आंदोलनरत है. ऐसा कर कांग्रेस नेता इस कानून को वापस लेने की मांग पर अड़े हैं. एक बाऱ फिर कांग्रेस फरवरी माह को तीन बड़े आंदोलन करने जा रही है.

Sanjeevani

आगामी 10 फरवरी को झारखंड के सभी प्रखंडों में किसानों के समर्थन में अधिवेशन किए जाएंगे एवं कृषि कानून वापस किए जाने की मांग की जाएगी. वहीं 13 फरवरी को झारखंड के सभी जिला मुख्यालयों में 10 से 20 किलोमीटर की पदयात्रा निकालकर किसान आंदोलन को ताकत दी जाएगी.

MDLM

20 फरवरी को राज्यव्यापी ट्रैक्टर रैली सह किसान सम्मेलन हजारीबाग में आयोजित किए जाएंगे, जिसमें झारखंड कांग्रेस के प्रभारी आरपीएन सिंह को भी आमंत्रित किया जाएगा. किसानों के समर्थन में किए जा रहे सभी आंदोलनों की सफलता के लिए कृषि मंत्री बादल पत्रलेख को संयोजक बनाया गया है.

इसे भी पढ़ें : हाल-ए-पार्किंग: एचबी रोड में दो बड़े हॉस्पिटल और कई मार्केंटिग कॉम्पलेक्स, पार्किंग की व्यवस्था नहीं, कैसे मिलेगी जाम से राहत!

बैठक में प्रदेश अध्यक्ष सहित कई नेता थे उपस्थित

आंदोलन को लेकर गुरूवार को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में एक बैठक आयोजित की गयी. बैठक की अध्यक्षता प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ रामेश्वर उरांव ने की. इस दौरान कार्यकारी अध्यक्ष, जोनल कोऑर्डिनेटर, कुछ जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष, मोर्चा संगठनों एवं विभागों के अध्यक्ष उपस्थित थे.

बैठक में कृषि मंत्री बादल पत्रलेख, विधायक ममता देवी, प्रदेश कांग्रेस कमिटी के कार्यकारी अध्यक्ष केशव महतो कमलेश, राजेश ठाकुर, संजय लाल पासवान, मानस सिन्हा, यूथ कांग्रेस अध्यक्ष कुमार गौरव, महिला कांग्रेस अध्यक्ष गुंजन सिंह सहित कई कांग्रेसी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : नागरिकों के लिए खुला बिरसा चौक का गेट, जाकिर हुसैन पार्क के पास अब 14वें वित्त कर्मी देंगे धरना

हमारे अन्नदाताओं के लिए कांग्रेस नेता लड़ने में सबसे आगे

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि देश के अन्नदाता किसान खेतों एवं खलिहानों में अपने जीवन और आजीविका और अपने वर्तमान एवं भविष्य को बचाने के लिए ऐतिहासिक संघर्ष और आंदोलन कर रहे हैं.

मोदी सरकार के नापाक इरादे ने मुट्ठी भर पूंजीपतियों के फायदे के लिए किसानों को बेच दिया, जिससे उन्हें देश की राजधानी और सीमाओं पर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठने के लिए मजबूर होना पड़ा. इन काले कानूनों को लागू करने और पारित करने के बाद से कांग्रेस पार्टी हमारे अन्नदाताओं के लिए लड़ने में सबसे आगे रहे हैं.

देशभर के किसानों को ताकत देने के लिए हो रहा आंदोलन : बादल पत्रलेख

कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि किसानों की आवाज तानाशाह सरकार तक पहुंचाने का काम किया जाएगा. जिस प्रकार लगातार किसानों के साथ वर्तमान केंद्र की सरकार अत्याचार कर रही है, देश भर के आन्दोलन कर रहे किसानों को ताकत दी जाएगी. उन्होंने कहा कि 10 फरवरी,13 फरवरी और 20 फरवरी को निर्धारित आंदोलन को पू री तरह से सफल बनाया जाएगा.

इसे भी पढ़ें : हेमंत सरकार ने पहली सीएसआर नीति को दी मंजूरी: पोषण, स्वास्थ्य, शिक्षा, खेल और आजीविका के क्षेत्र में हो सकेगा बदलाव

Related Articles

Back to top button