DumkaJharkhandTop Story

दारू बेचना छोड़ शुरू किया अगरबत्‍ती बनाने का काम, महिलाओं को मिला महेश भट्ट का साथ

Ranchi/Dumka : दुमका की हड़िया-दारु छोड़कर अगरबत्‍ती का धंधा करने वाली महिलाओं ने बॉलीवुड के फिल्‍म निर्माता-निर्देशक महेश भट्ट का ध्‍यान अपनी ओर खींचा है. उन्‍होंने दुमका के उपायुक्‍त मुकेश कुमार से इस संदर्भ में टेलीफोन पर बात की है और कहा है कि महिला सशक्तिकरण की दिशा में हो रहे प्रयास में वह सहयोग करना चाहते हैं.

महेश भट्ट ने कहा है कि कल तक जिन महिलाओं के द्वारा शराब बनाया जा रहा था, उस स्थान पर महिलाओं द्वारा बासुकी अगरबत्ती बनाया जा रहा है. हमसब का कर्तव्य है कि उनके इस प्रयास को सफल बनाने में अपनी भूमिका निभाएं.

इसे भी पढ़ें – साईनाथ यूनिवर्सिटी बीए, एमए, एमएससी कोर्स एक्ट के अनुरूप नहीं

ram janam hospital
Catalyst IAS

वीडियो के माध्यम से महेश भट्ट ने किया मदद का आग्रह

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

इस संबंध में दुमका जिला प्रशासन की ओर से महेश भट्ट का एक वीडियो भी जारी किया है. इस वीडियो में उन्‍होंने आग्रह किया है कि महिलाओं को सशक्‍त करने के लिए हमें उनकी बनायी बासुकी अगरबत्‍ती खरीदनी चाहिये और दूसरों को भी खरीदने के लिए प्रोत्‍साहित करना चाहिये. दुमका जिले के जरमुंडी प्रखंड के बेदिया गांव की 36 महिलाओं ने हड़िया दारू बेचना छोड़ अगरबत्‍ती बनाने का कारोबार शुरू किया था. बेदिया गांव दुमका का एक छोटा सा गांव है. यहां 75 परिवार रहते हैं, जिसमें से 99 प्रतिशत आदिवासी हैं. आज ये महिलायें अगरबत्‍ती बेचकर सम्‍मानित महसूस कर रही हैं.

इसे भी पढ़ें – आखिरकार केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने मांग ली माफी, आरोपियों को माला पहनाने पर हो रही थी आलोचना

अभी इस गांव में मास्टर ट्रेनर अंजुला देवी के द्वारा अगरबत्ती का निर्माण कराया जा रहा है. बासुकी ब्रांड अगरबत्ती के निर्माण से जुड़कर गरीब महिलाएं स्वावलंबन के रास्ते पर चल पड़ी हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button