BusinessJharkhandRanchiTOP SLIDER

IIM अहमदाबाद से एग्रीमेंट खत्म होने से स्टार्ट अप की गाड़ी हुई डिरेल, पटरी पर लाने की कवायद शुरू

 राज्य के मियों को नहीं मिल रहा लाभ

chhaya

Ranchi :  राज्य में 2016 में स्टार्ट अप पॉलिसी शुरू की गयी. इसके तहत अटल बिहारी इनोवेशन लैब स्थापित किया गया. पिछले एक साल से स्टार्ट अप पॉलिसी के तहत राज्य में काम ठप है. इसकी प्रमुख वजह आईआईएम अहमदाबाद से एग्रीमेंट खत्म होना है. एग्रीमेंट खत्म हुए एक साल हो गया. जिससे राज्य के उद्यमियों को स्टार्ट अप का लाभ उठाने में परेशानी हो रही है.

advt

आइआइएम अहमदाबाद राज्य में स्टार्ट अप पॉलिसी की मेंटर था. जो आईटी विभाग के अंतर्गत स्टार्ट अप पर काम कर रही थी. पिछले साल से लेकर अब तक न ही नये उद्यमी इस योजना के तहत रजिस्टर्ड हुए और न ही किसी को फंड का लाभ मिला. बता दें राज्य अटल बिहारी इन्नोवेशन लैब में स्टार्ट अप पॉलिसी के तहत उद्यमियों के साथ मिलकर आईआईएम अहमदाबाद की टीम काम करती थी.

इसे भी पढ़ें :बच्चों को परीक्षा से वंचित करने वाले स्कूलों से अब सख्ती से निपटेगा प्रशासन

तीन साल का था एग्रीमेंट

आईआईएम अहमदाबाद से तीन साल के लिये एग्रीमेंट किया गया था. जो साल 2016 से साल 2019 के लिये है. ऐसे में 26 दिसंबर 2019 को आईआईएम अहमदाबाद का एग्रीमेंट खत्म हुआ. तब से पॉलिसी पर काम नहीं किया गया. हालांकि सिंतबर 2019 में ही पूर्व सरकार की ओर से 17 उद्यमियों को सीड फंड उपलब्ध कराया गया. जो पांच से लेकर 12 लाख रुपये तक का रहा.

वहीं कुछ उद्यमियों को स्टाइपेंड के रूप में आठ से दस हजार रुपये दिये गये. लेकिन पिछले एक साल से इस पर काम बिल्कुल ठप है. इससे उद्यमियों को कोई लाभ नहीं मिल रहा. जबकि 107 उद्यमी रजिस्टर्ड है और पांच सौ अधिक आवेदन लैब के पास लंबित हैं.

इसे भी पढ़ें :टीबी मरीजों को काम से हटाना अब मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन, इलाज भी कराना होगा, जानिये क्यों

आईआईएम अहमदाबाद के साथ हुई है बैठक

विभाग के मुताबिक आईआईएम अहमदाबाद के साथ पिछले सप्ताह बैठक की गयी थी. इसमें आइटी विभाग के अधिकारी भी शामिल थे. ऐसे में संभावना है कि आईआईएम अहमदाबाद को फिर से स्टार्ट अप के लिये मेंटर नियुक्त किया जायें. वहीं कुछ अन्य संस्थानों से भी इस पर बात की जा रही है. अधिकारियों की माने तो अहमदाबाद की टीम ने राज्य में काम किया है. साथ ही टीम को इसका अनुभव है. स्टार्ट अप पॉलिसी की शुरूआत युवाओं के लिये की गयी जो. जो अपना उद्यम शुरू करना चाहते है. आईआईएम अहमदाबाद युवा उद्यमियों के आइडिया इनोवेशन और फंडिंग पर काम कर रहा था.

इसे भी पढ़ें :लाल किले पर हुई हिंसा में शामिल लोगों की पहचान शुरू, पुलिस ने 200 लोगों की तस्वीरें जारी की

क्या कहा अधिकारी ने

स्टार्ट अप के नोडल पदाधिकारी शंकर वर्मा ने बताया कि आईआईएम अहमदाबाद का स्टार्ट अप, इनोवेशन और इनवेंशन में पकड़ है. संभावना है कि आईआईएम अहमदाबाद या अन्य ऐसी सस्थान को काम दिया जायें. इसके पहले भी आईआईएम अहमदाबाद को मनोनय पर काम दिया गया था. इसके लिये टेंडर प्रक्रिया नहीं की गयी थी. तीन साल का एग्रीमेंट इसके लिये किया गया था, जो अब खत्म हो चुका है. पिछले दिनों इसके लिये बैठक हुई है. ऐसे में नयी संस्था नियुक्त होते, काम फिर से शुरू होगा. और उद्यमियों को फंडिंग भी की जायेगी.

इसे भी पढ़ें :मैम ! मां मेरे साथ मारपीट करती थी, खाना भी नहीं देती थी…

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: