NEWSWING
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

स्टेन स्वामी ने पुणे पुलिस की छापामारी को लेकर खुद को निर्दोष बताया

पुणे पुलिस और रांची पुलिस की टीम द्वारा नामकुम स्थित अपने आवास पर गयी छापामारी को लेकर फादर स्टेन स्वामी ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की.

168

Ranchi : पुणे पुलिस और रांची पुलिस की टीम द्वारा नामकुम स्थित अपने आवास पर की गयी छापामारी को लेकर फादर स्टेन स्वामी ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की. इसमें उन्होंने खुद को निर्दोष बताया. स्टेन स्वामी ने बताया कि कल सुबह 6:00 बजे मेरे नामकुम स्थित आवास पर महाराष्ट्र क्राइम ब्रांच की पुलिस मिस्टर निगम के नेतृत्व में नामकुम थाना के सहयोग से पहुंची. फादर स्टेन स्वामी ने कहा कि पुलिस मेरा लैपटॉप,मोबाइल, सीडी कैसेट, ऑडियो टेप और कुछ दस्तावेज जब्त कर ले गयी. छापामारी पुणे के पुलिस स्टेशन में दर्ज  मामले को लेकर की गयी थी. छापामारी क्यों की गयी यह नहीं बताया गया.

इसे भी पढ़ें- रांची में फादर स्टेन स्वामी के घर पर पुणे की पुलिस ने मारा छापा, लैपटॉप-मोबाइल जब्त

पुलिस के दस्तावेज मराठी भाषा में लिखे हुए थे

पुलिस के दस्तावेज मराठी भाषा में लिखे हुए थे. इसलिए हमने कहा कि मुझे हिंदी में दिया जाये.  लेकिन पुलिस ने अभी तक नहीं दिया है. स्टेन स्वामी ने कहा कि मैं अभी तक नहीं जान पाया  हूं कि छापा किस आधार पर मारा गया. अगर यह एफआईआर में दर्ज है तो उसका प्रारूप मुझे क्यों नहीं दिखाया गया. कल दोपहर मुझे पता चला कि महाराष्ट्र पुलिस ने पूरे देश में मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के घर पर छापा मारा है.  अगर महाराष्ट्र पुलिस पुणे में जो घटना घटित हुई थी, उस संदर्भ में मुझ से जानकारी चाह रही है, तो उस समय मैं पुणे में उपस्थित नहीं था.

इसे भी पढ़ें- भाजपा के पूर्व सांसद अजय मारू ने फर्जी तरीके से खरीदी जमीन : विधानसभा उपसमिति 

 मैं झारखंड में आदिवासियों के बीच वास करता हूं

फादर स्टेन स्वामी कहा कि मैं झारखंड के आदिवासियों के बीच वास करता हूं और सामाजिक कार्यकर्ता होने के नाते लोकतांत्रिक अधिकारों के उल्लंघन का विरोध करता हूं. कहा कि सरकार गरीब, पिछड़े तबके के बीच काम करने वाले लोगों को दबा रही है, हम इसका विरोध करते हैं स्टेन स्वामी ने कहा कि मुझे विश्वास है कि राज्य  और पुलिस मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को झूठे केस में फंसा रही है.

इसे भी पढ़ें- दाऊद इब्राहिम का शूटर साबिर सहित चार गिरफ्तार

madhuranjan_add

 यह घोषित आपातकाल और लोकतंत्र पर हमला है

स्टेन स्वामी ने आरोप लगाया कि पुलिस एक साथ विभिन्न शहरों में अभियान चलाकर गरीब और शोषित लेागों के लिए काम करने वाले सभी मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को लक्षित कर रही है. कहा कि मानवाधिकार भारतीय संविधान में निहित है. अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुसार वह यह समझते हैं कि पूरे देश में एक साथ मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर कार्रवाई घोषित आपातकाल जैसा और लोकतंत्र पर हमला है.

इसे भी पढ़ें- धनबाद डीसी का काम नहीं, चीख रहा है हूटर

 मानवाधिकार आयोग  हस्तक्षेप करे

स्टेन स्वामी ने मानवाधिकार आयोग से मांग की कि वे इस मामले में शीघ्र हस्तक्षेप करे और त्वरित, पारदर्शी, प्रभावशाली और भेदभाव से एक साथ मारे गए छापे की जांच करें. कहा कि गलत आरोपों में जिन मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया है उसको रिहा करवाया जाये.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Averon

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: