BusinessLead News

स्टेकहोल्डर्स समिटः चेंबर की शिकायत- प्रतिनिधियों को समिट में बुलाना चाहिए था

Ranchi : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन शनिवार को स्टेकहोल्डर्स समिट में शामिल हुए. जिसका आयोजन दिल्ली में किया गया. समिट का आयोजन राज्य में बन रही इंडस्ट्रीयल पॉलिसी के लिए किया गया.

जिसमें फेडरेशन ऑफ झारखंड चेंबर ऑफ कॉमर्स के प्रतिनिधि शामिल नहीं हुए. चेंबर अध्यक्ष प्रवीण जैन छाबड़ा ने कहा कि चेंबर को इसके लिए निमंत्रण नहीं दिया गया. शिकायत बस यही है कि चेंबर प्रतिनिधियों को भी समिट में बुलाना जाना चाहिए था. लेकिन ऐसा नहीं हुआ. अब उम्मीद है कि मुख्यमंत्री राज्य में आकर चेंबर प्रतिनिधियों के साथ चर्चा करें.

क्योंकि राज्य के उद्योगों की स्थिति से चेंबर वाकिफ है. ड्राफ्ट फाइनल होने से पहले चेंबर प्रतिनिधियों से सुझाव मांगे जायें. राज्य की औद्योगिक नीति लागू होने से पहले यहां के स्टेकहोल्डर्स की राय जरूर शामिल की जानी चाहिए.

इसे भी पढ़ें :शानदार उपलब्धि : भारत आईसीसी विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप तालिका में शीर्ष पर 

यहां भी हो मीटिंग

श्री छाबड़ा ने कहा कि मुख्यमंत्री यहां भी स्टेकहोल्डर्स के साथ बैठक करें. उन्होंने कहा कि दिल्ली में हुई चर्चा अगर पॉलिसी के ड्राफ्ट कंडिशन में हुई है और बड़े उद्योगपतियों की राय इसमें शामिल की गयी है, तो यह अच्छी बात है.

इससे दूसरे राज्य के लोग भी यहां इंवेस्ट करेंगे. लेकिन राज्य के उद्योगों की ग्राउंड रियेलिटी चेंबर समेत यहां के उद्यमियों को है. ऐसे में ड्राफ्ट स्टेज में अगर परिचर्चा हुई है, तो उसकी कॉपी हमें उपलब्ध कराते हुए प्रतिनिधियों से चर्चा की जानी चाहिए.

जो भी सुझाव सरकार को सटीक लगे उसे शामिल किया जाना चाहिए. इसके पहले साल 2016 में इंडस्ट्रीयल पॉलिसी लागू की गयी थी. जिसमें चेंबर प्रतिनिधियों के साथ पूर्व सरकार ने बैठक की थी.

इसे भी पढ़ें : आजादी का 75वां साल मनाने के लिए गठित कमिटी में सोनिया, ममता, मायावती के भी नाम

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: