DhanbadJharkhand

धनबाद जिला जज एवं सत्र न्यायाधीश की मौत मामले में एसएसपी ने की पीसी, उच्चस्तरीय जांच के संकेत

Dhanbad : जिला जज एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की मौत जिस ऑटो से हुई थी, पुलिस ने उसे गिरिडीह से बरामद कर लिया है. ऑटो धनबाद पुलिस के कब्जे में है. मामले में पुलिस ने लखन वर्मा और राहुल वर्मा को हिरासत में लिया है.
बुधवार की सुबह धनबाद के रणधीर वर्मा चौक के पास ऑटो ने जज उत्तम आनंद को टक्कर मारी थी. जिसमें उनकी मौत हो गयी. सीसीटीवी फुटेज सामने आने के बाद से मामले को लेकर सवाल उठाए जा रहे हैं. फुटेज देखकर प्रतित होता है कि घटना को जानबूझकर अंजाम दिया गया है.

धनबाद वरीय पुलिस अधीक्षक संजीव कुमार ने प्रेस वार्ता में जानकारी दी कि ऑटो को कब्जे में लेने के साथ ही दोनों को हिरासत में लिया है. दोनों से पूछताछ जारी है. एसआईटी और फॉरेंसिक टीम के द्वारा जांच की जा रही है.

इसे भी पढ़ें :सीएम के काफिले पर हमले के मुख्य आरोपी भैरव सिंह के स्वागत में लगे पोस्टर, पुलिस ने हटाया

आगे उन्होंने कहा कि मामले की जांच बड़े अधिकारियों के द्वारा भी की जा सकती है. पुलिस द्वारा गिरफ्तार आरोपी लखन वर्मा और राहुल वर्मा जोरापोखर थाना क्षेत्र के डिगवाडीह जेडएफ के रहने वाले हैं.

advt

वारदात के बाद दोनों ऑटो लेकर गिरिडीह भाग निकले थे. जहां से उन्हें गिरफ्तार किया गया. एसएसपी ने कहा है कि मामले की जांच गंभीरता से की जा रही है.

मामले की गंभीरता पर हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये धनबाद के एसएसपी से बात कर पूरे मामले पर संज्ञान लिया है. घटना को लेकर 72 घंटे में रिपोर्ट मांगी गयी है.

इसे भी पढ़ें :JAC: मैट्रिक रिजल्ट में गिरिडीह शीर्ष पर, दुमका सबसे पीछे

बता दें कि उत्तम आनंद जिले के हाई प्रोफाइल रंजय सिंह हत्या मामले की सुनवाई कर रहे थे. रंजय सिंह धनबाद के बाहुबली नेता और झरिया के पूर्व विधायक संजीव सिंह के काफी करीबी माने जाते थे.

जनवरी 2017 में रंजय की हत्या हुई थी. साथ ही कुछ दिन पूर्व ही शूटर अभिनव सिंह और अमन के गुर्गे रवि ठाकुर की जमानत याचिका इन्होंने खारिज कर दी थी.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : मेडिकल एजुकेशन में मोदी सरकार का बड़ा फैसला, OBC को 27% और EWS को 10% आरक्षण

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: