JamshedpurJharkhandOFFBEAT

62 एकड़ में फैला जुगसलाई मक डंप आज पेश कर रहा जैव विविधता की मिसाल

मरुस्थलीकरण और सूखे का मुकाबला करने का विशेष दिवस

Jamshedpur : जुगसलाई मक डंप (जेएमडी) 62 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ था, डंप की ऊंचाई का स्तर समुद्र तल से 133 मीटर से लेकर 188 मीटर थी. यही नहीं जेएमडी इस खूबसूरत स्टील सिटी के लिए पर्यावरण, सुरक्षा और स्वास्थ्य के लिए गंभीर खतरा था. लेकिन टाटा स्टील ने इस डंप को इको पार्क बनाकर देश में एक मिसाल कायम की है. जेएमडी विकास का उद्देश्य पर्यावरण की दृष्टि से सुरक्षित और टिकाऊ ‘ग्रीन कवर’ और उपयुक्त ‘जियो ग्रीन ब्लैंकेटिंग’ का निर्माण करना था, ताकि जमशेदपुर में सौंदर्य मूल्य जोड़ते हुए साइड ढलानों की रक्षा और मिट्टी के कटाव और धूल नियंत्रण को रोका जा सके.

जैव विविधता का केंद्र
संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन का मुख्य फोकस क्षेत्र मरुस्थलीकरण (यूएनसीसीडी) का मुकाबला करना और बंजर भूमि का पुनर्वास करना और मरुस्थलीकरण को रोकने के लिए वन आवरण बनाना है. जेएमडी मिट्टी के कटाव को रोककर और वायु प्रदूषण नियंत्रण में सहायता करके यूएनसीसीडी के इस उद्देश्य को प्राप्त करने में मदद कर रहा है और वृक्षारोपण और डंप रिक्लेमेशन के माध्यम से इको-पार्क के रूप में निकायों के पानी के प्रदूषण की जांच कर रहा है. पारिस्थितिकी तंत्र सेवाओं के पुनर्स्थापन, पुनर्वास और प्रबंधन के माध्यम से जैव विविधता संरक्षण को ध्यान में रखते हुए जेएमडी विभिन्न प्रजातियों के औषधीय पौधों, पक्षियों, छोटे जानवरों, तितलियों आदि के लिए घर बन गया है. उत्सर्जन को कम करने और जलवायु परिवर्तन को कम करने के लिए जेएमडी गर्मियों के दौरान आग के खतरे को रोकने में योगदान देता है. डंप के भीतर बनाये गये जल निकाय न केवल वर्षा जल संचयन में मदद करते हैं, बल्कि मछलियों और बत्तखों के साथ जैव विविधता को भी बढ़ाते हैं. जल निकायों में पानी का फव्वारा जल निकायों के वातन में मदद करता है और पूरे क्षेत्र को एक आकर्षक रूप प्रदान करता है. रिसने और निक्षालन को रोकने के लिए तालाब लाइनर का उपयोग किया जाता है. पार्क में सिंचाई और प्रकाश व्यवस्था के लिए सौर ऊर्जा का भी उपयोग किया जा रहा है. जेएमडी को अब एक इको-पार्क के रूप में विकसित किया गया है और इसने क्षेत्र में जैव विविधता को भी बढ़ाया है.

आज है “मरुस्थलीकरण और सूखे का मुकाबला करने का विश्व दिवस”
टाटा स्टील ने बड़े पैमाने पर सामुदायिक भागीदारी के माध्यम से अपने परिचालन क्षेत्रों में मरुस्थलीकरण और सूखे के प्रभावों को कम करने के लिए कई परियोजनाएं शुरू की हैं.
मरुस्थलीकरण और सूखा दिवस को आधिकारिक तौर पर संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 17 जून को “मरुस्थलीकरण और सूखे का मुकाबला करने के लिए विश्व दिवस” ​​के रूप में घोषित किया गया है. इसका उद्देश्य मरुस्थलीकरण से निपटने के लिए अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों के बारे में जन जागरूकता को बढ़ावा देना है. मानव-प्रेरित पानी की कमी के बारे में जागरूकता की कमी है, जो सूखे के जोखिम और प्रभावों को बढ़ा देती है.

Catalyst IAS
SIP abacus

टाटा स्टील ने वृक्षारोपण के जरिए सूखे को रोकने का किया काम
टाटा स्टील प्रमुख खनन और अन्य संबंधित कार्यों के कारण प्रभावित भूमि को बहाल करने की दिशा में लगातार काम कर रहा है, जो अन्यथा हमारे पारिस्थितिकी तंत्र को ख़राब करता है. इन पहलों में वृक्षारोपण के माध्यम से वनीकरण, ग्रीनबेल्ट विकास, दुर्गम क्षेत्रों में सीडबॉल के माध्यम से वृक्षारोपण, वृक्षारोपण गतिविधियों के माध्यम से खदान का सुधार और जल निकाय निर्माण शामिल हैं. जागरूकता फैलाने से लेकर कार्यान्वयन और निगरानी तक सभी पहलों में समुदायों और स्थानीय हितधारकों को शामिल किया गया है. वर्षा जल संचयन में वृक्षारोपण की महत्वपूर्ण भूमिका है. वनों की कटाई, खनन और औद्योगिक गतिविधियां मरुस्थलीकरण के कुछ प्रमुख कारण है.

MDLM
Sanjeevani

ये भी पढ़ें- Chaibasa : पश्चिमी सिंहभूम में जुमे की नमाज को लेकर पुलिस अलर्ट, जगह-जगह फोर्स तैनात

Related Articles

Back to top button