JharkhandLead NewsRanchi

आर्थरोस्कोपी से रिम्स में स्पोर्ट्स इंज्यूरी का हो रहा इलाज

Ranchi : स्पोर्ट्स इंज्यूरी हाल के दिनों में तेजी से बढ़ी है. वहीं खेलकूद में यहां के लोगों का पार्टिसिपेशन अधिक होने की वजह से इसके मामले भी पहले की तुलना में काफी आ रहे हैं. लेकिन राहत की बात यह है कि अब इसके इलाज के लिए मरीजों को कहीं और जाने की जरूरत नहीं है. रिम्स में इसका इलाज शुरू कर दिया गया है. वह भी आर्थरोस्कोपिक टेक्निक से.

इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि रिम्स के आर्थो डिपार्टमेंट में 15 दिनों के अंदर स्पोर्ट्स इंज्यूरी से ग्रसित 10 मरीजों का ट्रीटमेंट किया गया.

आर्थो स्पेशलिस्ट डॉ गोविन्द कुमार गुप्ता ने दूरबीन (आर्थरोस्कोपी) विधि से मरीजों का सफलतापूर्वक इलाज किया. उन्होंने कहा कि अधिकांश मरीज जानकारी के आभाव में उचित इलाज नहीं करा पाते थे.

advt

इसे भी पढ़ें :एक्टर सोनू सूद और सहयोगियों ने 20 करोड़ रुपये से अधिक का टैक्स किया चोरी

वर्कशॉप से बढ़ रही जागरुकता

डॉ गोविन्द कुमार गुप्ता ने बताया कि मरीजों में जागरुकता लाने के लिए रिम्स में प्रत्येक वर्ष स्पोर्ट्स इंज्यूरी वर्कशॉप का भी आयोजन किया जाता है. इस साल 10 अगस्त 2021 को वर्कशॉप का आयोजन किया गया था.

यही वजह है कि स्पोर्ट्स इंज्यूरी के मरीज जागरूक हो रहे हैं. साथ ही उन्होंने कहा कि इंज्यूरी (एसीएल टिएर, पीसीएल टिएर, एमसीएल टिएर, एलसीएल टिएर, मिनिस्कस टिएर, रोटेटर कफ टिएर, बंकार्ट लीशन) को लेकर अपने इलाज के लिए प्रत्येक बुधवार और शनिवार को ओपीडी में पहुंच रहे हैं.

उन्होंने कहा कि झारखंड के सरकारी हॉस्पिटल्स में केवल रिम्स में ही इसकी सुविधा उपलब्ध है. वहीं आयुष्मान कार्डवाले मरीज भी इलाज करा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : BJP का दामन छोड़ दीदी का पल्लू पकड़ा पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: