न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

खेल, एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज कोटे की सीटें बढ़ा सकते हैं दिल्ली विश्वविद्यालय के कॉलेज

718

New Delhi : दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के अधीन आने वाले कॉलेज खेल और एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज (ईसीए) के तहत स्वीकृत सीटों की संख्या विभागीय स्तर पर बढ़ा सकते हैं. हालांकि , उन्हें खेल और ईसीए के लिए निर्धारित पांच प्रतिशत की सीमा के दायरे में रहना होगा.

mi banner add

इस बार खेल श्रेणी को किया गया शामिल 

हर कॉलेज में कुल सीटों की अधिकतम पांच प्रतिशत सीटें खेल और ईसीए श्रेणी के लिए आरक्षित होती है. अगर किसी विभाग को लगता है कि इन श्रेणियों के तहत भरी जाने वाली सीटें खाली हैं तो वह दूसरे विभाग को रिक्त सीटें स्थानांतरित कर सकता है.

इसे भी पढ़ेंःतत्कालीन महापौर रमा खलखो के ससुरालवालों ने सतीश चंद्र बाउल की 5.53 एकड़ जमीन पर कर रखा है कब्जा

हालांकि, उन्हें पांच प्रतिशत की सीमा का ध्यान रखना होता है. पिछले साल तक यह व्यवस्था सिर्फ एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटीज श्रेणी के लिए ही थी लेकिन इस बार इसमें खेल श्रेणी को शामिल किया गया है.

पांच प्रतिशत सीटें खेल और ईसीए की श्रेणी में शामिल

Related Posts

आवासीय उच्च विद्यालयों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करनेवाले शिक्षकों और छात्रों को मिला सम्मान

राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू और मंत्री लुईस मरांडी ने किया सम्मानित

एक अधिकारी ने कहा कि आमतौर पर देखा जाता है कि खेल और ईसीए श्रेणियों में छात्र विज्ञान के बजाय मानविकी और सामाजिक विज्ञान कार्यक्रमों का चयन करते हैं ताकि आगे चलकर उन्हें दबाव नहीं झेलना पड़े.

उन्होंने कहा कि इस स्थिति में अगर विज्ञान विभाग में खेल और ईसीए श्रेणियों के तहत कोई प्रवेश नहीं होता है, तो खाली सीटों को दूसरे विभाग में स्थानांतरित किया जा सकता है, जहां मांग अधिक हो. बैठक कर इस व्यवस्था में खेल श्रेणी को शामिल करने का फैसला किया गया.

इसे भी पढ़ेंःदर्द ए पारा शिक्षक: बेटे को प्रतियोगी परीक्षा नहीं दिला पा रहे अमर, मानदेय मिलता तो परीक्षाएं नहीं छूटतीं

एक प्राध्यापक ने स्पष्ट किया कि यदि एक कॉलेज में कुल 1,300 सीटें है, तो उनसे से पांच प्रतिशत यानी 65 सीटें खेल और ईसीए श्रेणी में आती हैं. खेल और ईसीए का अनुपात 40:25 है.

यदि यह देखा जाता है कि एक विभाग में एक खाली सीट है , जबकि एक अन्य विभाग के पास पहले से ही श्रेणी के तहत एक प्रवेश है तो उस खाली सीट को दूसरे विभाग में स्थानांतरित किया जा सकता है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: