न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सभी जिलों से गलत काम करने वाले SPO हटाए जाएं : DGP

429

Ranchi : डीजीपी डीके पांडेय ने राज्य के सभी जिलों के एसपी को यह निर्देश दिया है कि जितने भी एसपीओ गलत काम कर रहे हैं उन्हें हटाया जाए. डीजीपी ने कहा है कि जो भी एसपीओ खुद को पुलिस का आदमी बताकर काम नहीं करते हैं या फिर किसी प्रकार के गलत काम में संलिप्त हो हो गए हैं उन्हें काम से जल्द से जल्द हटा दिया जाए. गौरतलब है कि पिछले हफ्ते सीएम आवास के सामने एसपीओ बुधु दास की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी. जिसके बाद एसडीओ की सुरक्षा को लेकर इस तरह का निर्देश डीजीपी के द्वारा जारी किया गया है.

mi banner add

इसे भी पढ़ें : पत्रकार से जाति विशेष बातचीत के दौरान IPS  इंद्रजीत महथा ने अपने जूनियर-सीनियर अफसरों को भला-बुरा कहा

एसपीओ के लिए नक्सल पीड़ितों को मिलेगी प्राथमिकता

डीजीपी डीके पांडेय ने राज्य के सभी जिलों के पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिया कि नक्सल पीड़ितों को एसपीओ में बहाली के लिए पहले प्राथमिकता दी जाए. साथ ही कहा है कि उनके पहचान को भी गुप्त रखा जाए. सभी रेंज के डीआईजी को एसपीओ की मॉनिटरिंग और उसके कार्यों की समीक्षा करने का भी निर्देश दिया गया है.

इसे भी पढ़ें : IAS, IPS और टेक्नोक्रेटस छोड़ गये झारखंड, साथ ले गये विभाग का सोफासेट, लैपटॉप, मोबाइल,सिमकार्ड और आईपैड

अपनी पहचान गुप्त नहीं रखते हैं एसपीओ

Related Posts

बकरी बाजार मैदान में कॉम्प्लेक्स बनाने के निर्णय को रद्द करने की मांग, AAP ने मेयर को सौंपा ज्ञापन

पार्टी ने मांग की कि उस मैदान को बच्चों के खेल के मैदान-पार्क के रूप में विकसित किया जाये

नियम के अनुसार एसपीओ को अपनी पहचान गुप्त रखनी होती है. लेकिन अब ऐसा नहीं होता है. लोग एसपीओ बनते ही खुद को पुलिस का आदमी बताने लगते हैं. जिससे की उसकी पहचान उजागर हो जाती है. ऐसे में एसपीओ की जान को खतरा हो जाता है.

इसे भी पढ़ें : घुटन में माइनॉरटी IAS ! सरकार पर आरोप- धर्म देखकर साइड किए जाते हैं अधिकारी

एसपीओ की सुरक्षा के लिए नहीं है कोई प्रावधान

पुलिस के पास ऐसा कोई प्रावधान नहीं है कि वह एसपीओ को सुरक्षा दे सके. ऐसे में कई एसपीओ की जान भी चली जाती है. पुलिस उसे एसपीओ मानने से भी इंकार कर देती है और यह कहकर अपना पल्ला झाड़ लेती है कि यह पुलिस का आदमी नहीं है.

इसे भी पढ़ें : पुलिस महकमे के एक खास वर्ग का नौकरशाही में वर्चस्व, राष्ट्रपति से शिकायत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: